शिक्षामित्रों ने मुख्यमंत्री से स्थायी हल निकालने की मांग की

सीएम योगी आदित्यनाथ से आम शिक्षक/शिक्षामित्र एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल की मुलाकात हुई। शिक्षामित्र अपनी नौकरी बचने के लिए लखनऊ के ईको गार्डन में धरना प्रदर्शन कर सरकार पर दबाब बनाने की कोशिश कर रहे है। लेकिन उनकी कोई सुन नहीं रहा है। सीएम योगी ने शिक्षामित्रों के प्रतिनिधि मंडल से मुलाकात कर उनसे कहा है कि सरकार न्याय पालिका के फैसले के अनुसार शिक्षामित्रों की मांगों पर विचार करेगी। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी से मिलाने गए शिक्षमित्रों के प्रतिनिधि मंडल में एसो. की अध्यक्ष उमादेवी, सन्तोष दुबे और दिनेश ने सीएम से कहा कि अब आश्वासन नहीं चाहिए बल्कि स्थायी हल चाहिए। सीएम से शिक्षामित्र प्रतिनिधि मंडल की मुलाकात एसीएम तृतीय आनंद सिंह के नेतृत्व कराई।

धरना 42 वें दिन भी जारी रहा : आम शिक्षक/शिक्षामित्र एसोसिएशन की अध्यक्ष उमादेवी के नेतृत्व में पांच सूत्री मांगों को लेकर शिक्षामित्रों का लखनऊ के ईको गार्डन में 42 वें दिन धरना जारी रहा। शिक्षामित्रों ने नारेबाजी कर सरकार से न्याय की गुहार लगाई। टीईटी पास शिक्षामित्रों को भारांक देकर नियमित करने की मांग के साथ समान कार्य – सामान वेतन की मांग की। आम शिक्षक/शिक्षामित्र एसोसिएशन का कहना है कि सरकार जब तक उनकी पांच सूत्री मांगें नहीं मान लेती है तब तक धरना जारी रहेगा। एसोसिएशन की अध्यक्ष उमादेवी ने कहा कि सीएम से वार्ता सकारात्मक रही लेकिन धरना स्पष्ट आदेश आने के बाद ही समाप्त होगा।

शिक्षामित्रों का पीएम के नाम पत्र: शिक्षामित्रों ने पत्र लिखकर पीएम नरेन्द्र मोदी से गुहार लगाई है कि वह वह 1.70 लाख शिक्षामित्रों के भविष्य के साथ न्याय करें। आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर एसो.के अध्यक्ष जितेन्द्र शाही ने सभी राज्यों का उदाहरण देते हुए कहा है कि सरकार यदि चाहे तो शिक्षामित्रों को गैर शैक्षणिक संवर्ग में समायोजित कर सकती है।

पढ़ें- शिक्षामित्रों ने जनेऊ उतारकर जताया विरोध 

shikshaamitra demanded permanent solution from Chief Minister Yogi Adityanath

shikshaamitra demand permanent solution from cm yogi

up shiksha mitra latest news 2018, shiksha mitra news पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉग को subscribe कर सकते है। जिससे आपको हमारे blog की latest post का notification मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.