शिक्षा मित्रों का धरना प्रदर्शन – पीलीभीत

पीलीभीत : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौरे के दृष्टिगत की गई सुरक्षा तैयारियां नाकाम साबित हुईं। ित शिक्षामित्र पुलिस का सुरक्षा घेरा तोड़ते सीएम के करीब तक जा पहुंचे। संयोग रहा कि सिविल लाइंस पुलिस चौकी के निकट पुलिसकर्मियों ने दम दिखाकर रोक लिया। इसके बाद ित शिक्षामित्रों ने हाईवे जाम किया तो घंटों टस से मस नहीं हुए। चिलचिलाती धूप में जाम खुलने का इंतजार करते यात्री सुस्त सरकारी तंत्र एवं सरकार दोनों को कोसते रहे। शिक्षामित्र दम दिखाते तो सीएम के सामने बवेला खड़ा होने की बड़ी घटना से इनकार नहीं किया जा सकता था।

शहर में मुख्यमंत्री के दौरे का एहसास सुबह ही सड़कों पर होने लगा था। टनकपुर हाईवे पर एक नहीं बल्कि आधा दर्जन स्थानों पर पुलिस की टुकड़ियां सुरक्षा में लगी थी। इसके बावजूद शिक्षिमित्रों को रोकने में पुलिस नाकाम रही। ित शिक्षामित्र नारेबाजी करते सिविल लाइंस पुलिस चौकी तक जा पहुंचे। हालांकि शिक्षामित्र समूह में गिनती की संख्या में ही नजर आ रहे थे। सिविल लाइंस चौकी के सामने पुलिस ने रोका तो उनकी संख्या सैकड़ों में नजर आने लगी। मसलन, आंदोलित शिक्षामित्र हाईवे पर बैठे तो लोगों के लिए पैदल निकलना मुश्किल हो गया।1मीलों लगी वाहनों की लंबी लाइन

हाईवे पर शिक्षामित्रों ने जाम लगाया कि तो वाहनों की लंबी लाइन लग गई। राहगीर चिलचिलाती धूप में फंसे व्यवस्था को कोस रहे थे। जाम इतना लंबा था कि छूटने के बावजूद वाहन एक घंटे तक रेंगकर चलते रहे। स्कूली बच्चों की छुट्टी दोपहर में एक बजे हुई तो घरों तक पहुंचने में घंटो लग गए।

मंत्री, विधायक का काफिला भी रुका: हाईवे पर जाम की जद में मंत्री दारा सिंह एवं शहर विधायक संजय गंगवार की गाड़ी भी फंसी रही। विधायक का तो शिक्षामित्रों ने घेराव ही कर लिया। हाईवे की हालात से उच्चाधिकारी अवगत हुए तो जाम खत्म कराने को तंद्रा टूटी। एएसपी रोहित मिश्र ढाई घंटे बाद पहुंचे तो जाम खुल सका।

टनकपुर हाईवे पर शिक्षामित्रों ने जाम लगा दिया और जोरदार प्रदर्शन किया। इस दौरान वहां लंबा जाम लग गया। इस कारण एंबुलेंस व बच्चों की स्कूल वैन भी फंस गई, जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा ’ जागरण’>>हाईवे जाम होने से टनकपुर रोड पर वाहनों की लगी लंबी लाइन, परेशान हुए राहगीर

सिविल लाइंस पुलिस चौकी के पास पुलिस ने दम दिखाकर रोक लिया शिक्षामित्रों कोशिक्षामित्रों की अनदेखी रोगियों पर पड़ी भारी1शिक्षामित्र शुरुआत में करीब डेढ़ दर्जन की तादाद में रहे। जिससे पुलिसकर्मियों ने एंबुलेंस को तो पार करा दिया। शिक्षामित्र संख्याबल में भारी पड़े तो एंबुलेंस को भी नहीं निकलने दे रहे थे।

पुलिस भी उनके सामने लाचार पड़ी नजर आई। मरीज को ले जा रहे तीमारदार चिल्लाते रहे लेकिन उनकी कोई सुनने वाला नहीं था। परेशान तीमारदार पुलिसकर्मियों से पूछते तो जवाब होता, इंतजार करो अधिकारी पहुंचेंगे तो बात बनेगी।

हमलावर हुए शिक्षामित्र हाईवे पर अफरा-तफरी

पीलीभीत : हाईवे पर शिक्षामित्रों के व्यवहार से राहगीरों को भी पीड़ा हुई। जाम के दौरान एक बाइक सवार ने निकलने की कोशिश की तो शिक्षामित्रों की भीड़ में मौजूद रहा युवक हमलावर हो उठा। दूसरा युवक डंडा लेकर दौड़ा तो अफरा-तफरी का माहौल हो गया। पुलिसकर्मियों एवं शिक्षामित्र आगे आए तो बाइक सवार को बमुश्किल बचाया जा सका। हालांकि, बचाव पक्ष के तेजी दिखाने तक बाइक सवार की जमकर धुनाई हो चुकी थी।

शिक्षामित्र सिविल लाइंस पुलिस चौकी के निकट पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया। उस समय संख्या कम होने से हाईवे पर लोगों की आवाजाही बदस्तूर रही। शिक्षामित्रों का जमावड़ा हुआ तो हाईवे जाम हो गया। एक बाइक सवार ने निकलने की कोशिश की तो शिक्षामित्रों की भीड़ में मौजूद रहे युवक ने पिटाई शुरू कर दी। एक अन्य युवक हाथ में डंडा लिए बाइक सवार की ओर दौड़ा।

बाइक सवार ने बचाव की तो कई लोग उसके ऊपर टूट पड़े। हो-हल्ला मचा तो पुलिसकर्मी बचाव में दौड़ पड़े। मीडिया कर्मियों ने मारपीट को कैमरे में कैद करना शुरू किया तो शिक्षामित्रों ने ही बीच-बचाव कर मामले को शांत कराया। विवाद के बाद किसी ने जाम को पार करने की हिम्मत नहीं जुटाई।जाम में पिटाई के दौरान रोड पर युवक गिर पड़ा

ड्यूटीरत पुलिसकर्मियों एवं कुछ शिक्षामित्रों के आगे आने से बच सका बाइक सवार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *