शिक्षामित्रों को प्रति वर्ष ढाई व अधिकतम 25 अंक वेटेज

Shiksha Mitron की मांग पर Basic education department नवंबर के पहले हफ्ते में Teacher Eligibility Test (TET) आयोजित कराएगा। Basic teachers की Recruitment में शिक्षामित्रों को उनके अनुभव के आधार पर वेटेज देने के लिए नियमावली में संशोधन किया जाएगा। गुरुवार को shiksha mitra sangathan के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा राज प्रताप सिंह ने उन्हें यह आश्वासन दिया। वहीं उन्होंने शिक्षामित्रों को teachers  की भर्ती के लिए शैक्षिक गुणांक में उनके अनुभव के आधार पर प्रतिवर्ष ढाई अंक के हिसाब से वेटेज देने का प्रस्ताव रखा जिसकी अधिकतम सीमा 25 अंक होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बीते दिनों हुई वार्ता के बाद शिक्षामित्रों के प्रतिनिधियों ने अपर मुख्य सचिव basic education के साथ फिर बैठक की। shikshamitra samayojan radd करते हुए supreme court ने राज्य सरकार को शिक्षामित्रों को teachers की दो भर्तियों में मौका देने और उनके अनुभव के आधार पर उन्हें भर्ती प्रक्रिया में वेटेज देने के लिए कहा है। supreme court के स्तर से यह निर्णय सुनाये जाने के बाद कि बिना टीईटी उत्तीर्ण किये कोई basic shiksha नहीं बन सकता, shikshamitra सरकार से जल्द से जल्द TET कराने की मांग कर रहे हैं। अपर मुख्य सचिव के साथ बैठक में भी यह मुद्दा उठा। इस पर मुख्य सचिव ने शिक्षामित्र प्रतिनिधियों को नवंबर के पहले हफ्ते में TET आयोजित कराने का आश्वासन दिया।

पढ़ें-  शिक्षामित्र मामले में अब तक कोई फैसला नहीं

shikshamitra teachers recruitment में ज्यादा से ज्यादा वेटेज दिये जाने की मांग कर रहे थे। अपर मुख्य सचिव ने शिक्षामित्रों को teachers recruitment में उनके शिक्षा अनुभव के आधार पर प्रतिवर्ष ढाई अंक के हिसाब से अधिकतम 25 अंक तक वेटेज देने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने shikshamitra को यह भी बताया कि TET के आयोजन से पहले ही नियमावली में संशोधन कर जहां शिक्षामित्रों को TET से छूट देने का प्रावधान रद किया जाएगा, वहीं उन्हें teacher recruitment में अनुभव के आधार पर वेटेज दिये जाने का प्रावधान जोड़ा जाएगा। टीईटी उत्तीर्ण करने के लिए निर्धारित अंक प्रतिशत में छूट दिलाने की शिक्षामित्रों की मांग पर उन्होंने उन्हें भरोसा दिलाया कि सरकार इस संबंध में National Council for Teacher Education (एनसीटीई) से अनुरोध करेगी।

पढ़ें- शिक्षामित्रों का वेतन 17 हजार होने की अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल 

बैठक में शिक्षामित्रों को जुलाई का पूरा वेतन जारी करने का आश्वासन दिया गया। वहीं teacher के वेतन के बराबर मानदेय देने की शिक्षामित्रों की मांग पर अपर मुख्य सचिव ने उनसे कहा कि इस विषय पर मुख्यमंत्री से विचार विमर्श के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा। बैठक में तिलोई के भाजपा विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह, विशेष सचिव बेसिक शिक्षा डीपी सिंह, nideshak basic shiksha सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह, sachiv basic shiksha parishad sanjay sinha आदि भी मौजूद थे।

पढ़ें- मुख्यमंत्री से मिले शिक्षामित्र

शिक्षामित्र की नियुक्ति पर बीएसए और सरकार से मांगा जवाब

शिक्षामित्रों का assistant teacher post पर समायोजन रद होने के बाद sahayak adhyapak के 16448 पदों पर एक याची की नियुक्ति की मांग संबंधी याचिका पर allahabad High Court ने प्रदेश सरकार और BSA बलिया से जवाब मांगा है। विवेक कुमार सिंह की याचिका पर न्यायमूर्ति पीकेएस बघेल सुनवाई कर रहे हैं। याची के advocate सीमांत सिंह का कहना है कि याची शिक्षामित्र से sahayak adhyapak के पद पर समायोजित हुआ था। इस दौरान इसका चयन 16448 sahayak adhyapak के पद पर भी हो गया, लेकिन समायोजित होने के कारण उसने16448 पदों वाली भर्ती में ज्वाइन नहीं किया। अब चूंकि shikshamitra samayojan सुप्रीम कोर्ट ने रद कर दिया है इसलिए याची को 16448 sahayak adhyapak की recruitmentके तहत नियुक्ति दी जाए। याचिका पर अगली सुनवाई चार सितंबर को होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.