हाथरस में शिक्षामित्र ने खुद को गोली से उड़ाया

हाथरस:  shiksha mitra samayojan रद होने से आहत गांव नगला महारी के शिक्षामित्र ने सीने में गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गांव नगला महारी के सत्यप्रकाश यादव उर्फ सप्पू (36) पुत्र रक्षपाल सिंह यादव shiksha mitra थे। 26 अप्रैल 2006 को primary school himmatpur में तैनाती पाई थी। एक मई 2015 को शिक्षामित्रों के समायोजन के दौरान वे भी sahayak adhyapak बन गए तथा द्वितीय बैच के तहत हसायन ब्लॉक के primary school नगला बरी में नियुक्ति पाई। दो साल नौकरी करने के बाद समायोजन रद हो गया। शिक्षामित्रों के आंदोलन में सत्यप्रकाश भी शामिल हुए थे।

पढ़ें- शिक्षा मित्रों को 10 हजार रुपये मानदेय का शासनादेश जारी

सत्यप्रकाश के भाई ओमप्रकाश ने बताया कि सत्यप्रकाश samayojan रद होने से बेहद परेशान था। मंगलवार को भी वह चिंतित बैठा था, तब परिवार व पड़ोसियों ने उसे समझाया था, मगर वह सदमे से उबर नहीं पाया। गांव में उसके हिस्से में केवल चार बीघा जमीन थी। मंगलवार की रात वह घेर पर बने कमरे में सोया था। बुधवार तड़के चार बजे गोली चलने की आवाज आई। सत्यप्रकाश की चीख भी निकली। परिजन और गांव के लोग पहुंचे, मगर तब तक सत्यप्रकाश की मौत हो चुकी थी।

पढ़ें- शिक्षामित्रों ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, दी चेतावनी 

कोतवाली पुलिस के बाद एएसपी डॉ. अर¨वद कुमार व सीओ आशीष प्रताप सिंह भी मौके पर पहुंचे। परिजनों ने पूछताछ में समायोजन रद होने के सदमे की बात दुहराई। पुलिस ने मौके से तमंचा बरामद किया है। परिजनों और शिक्षामित्रों के संगठन ने 25 लाख रुपये मुआवजा और पत्नी को नौकरी दिलाने की मांग की है।परिजन बोले, समायोजन रद होने के कारण था परेशान पत्नी व चार बच्चों को बिलखता छोड़ गया सत्यप्रकाश यादव

पढ़ें- अर्धनग्न होकर शिक्षामित्रों ने जंतर मंतर पर किया प्रदर्शन 

Shiksha Mitra shot himself in Hathras

Shiksha Mitra shot himself in Hathras

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.