आम शिक्षक-शिक्षामित्र एसोसिएशन ने धरने के दौरान मृत साथियों का पिंडदान कर तर्पण किया

ईको गार्डेन लखनऊ में आम शिक्षक-शिक्षामित्र एसोसिएशन का धरना मई से धरना जारी है। धरने पर बैठे शिक्षामित्रों ने दौरान रविवार को मृत साथियों का पिंडदान कर तर्पण किया। इस दौरान अध्यक्ष उमा देवी की मौजूदगी में पदाधिकारियों ने पितृपक्ष में श्रद्ध करने का फैसला किया। इस दौरान उन्होंने अल्टीमेटम दिया कि शिक्षामित्रों की अधिक दिनों तक उपेक्षा सरकार को भारी पड़ेगी। जब से सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द किया है तब से शिक्षामित्र धरना दे रहे है लेकिन अभी तक उनका कुछ हुआ नहीं है।

लखनऊ के इको गार्डन में धरना दे रहे शिक्षामित्रों ने संघर्ष व विभिन्न कारणों से मृत्यु के शिकार हुए शिक्षा मित्रों का पिंडदान किया। साथ कढ़ी-चावल का भोज भी कराया। आम शिक्षक-शिक्षामित्र एसोसिएशन अध्यक्षा उमा देवी का कहा है कि सरकार शिक्षामित्रों की लगातार उपेक्षा कर रही है। लेकिन अधिक दिन तक उपेक्षा एव नजरंदाज करना सरकार को भी भारी पड़ेगा। उन्होंने कहा प्रदेश सरकार अपनी मनमानी पर उतारू है। ऐसे में शिक्षामित्र के हित में गठित कमेटी के निर्णयों पर भी फैसला नहीं लिया गया। सिर्फ आश्वासन का झुनझुना थमाकर धोखा देने का काम किया। शीघ्र ही आर-पार की लड़ाई होगी।

ये रखीं मांगें:

  • शिक्षामित्रों को 9वीं अनुसूची में शामिल किया जाए
  • केंद्र के समान अपग्रेड पैराटीचर 38,878 रुपये दिया जाए
  • प्री-प्राइमरी की व्यवस्था कर समायोजन किया जाए
  • मृतक आश्रितों को मुआवजा व नौकरी मिले

धोखा दे रही सरकार: दारुलशफा में उप्र दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ हुई बैठक में अध्यक्ष अनिल कुमार यादव ने कहा कि सरकार शिक्षामित्रों धोखा दे रही है। वह मध्यप्रदेश, राजस्थान की तर्ज पर शिक्षामित्रों का भविष्य सुनिश्चित करे। वहीं दीपावली से पहले वादा पूरे न होने पर विधानसभा घेराव की चेतावनी दी।

पढ़ें- शिक्षामित्रों के मामले में उच्च स्तरीय कमेटी जल्द जल्द सौंपेगी सरकार को रिपोर्ट

Shiksha Mitra protest at Eco Garden Lucknowमृत साथियों का ईको गार्डन में श्रद्ध करते शिक्षामित्र

eco garden shiksha mitra dharna news पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते है। जिससे आपको हमारे ब्लॉग की लेटेस्ट पोस्ट का नोटिफिकेशन मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.