पौने दो लाख शिक्षामित्रों के भाग्य का फैसला कल पूर्व सीएम सहित अन्य को पार्टी बनाये जाने की तैयारी

प्रदेश के parishadiya vidyalaya में पौने two lakh shikshamitron के assistant teacher बनाये जाने के मामले में अंतिम निर्णय सुप्रीम कोर्टसे मंगलवार को आने की संभावना है। इसकी तैयारियों को लेकर education department एवं state government लग गयी है। वहीं Shikshamitra से assistant teacher बने लोग भी परेशान है कि Court से क्या और कैसा आदेश आयेगा। मामले को लेकर कोर्ट में बहस पूरी हो चुकी है। प्रदेश सरकार एवं Shikshamitron ने एक से एक advocate को कोर्ट में खड़ा कराके बहस करवाया जबकि B.ed and BTC candidates भी मामले में जोरशो से लगे हुए है। इनका कहना है कि जब तक उनको न्याय नहीं मिलेगा तब तक वह न्याय की लड़ाई लड़ते रहेंगे। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट इलाहाबाद के मुख्य न्यायाधीश सहित तीन जजों के बेंच के फैसलों को बदलना मुश्किल है जहां तक मानवीय दृष्टिकोण की बात है तो मामले को बढ़ाने के लिए एवं ऐसी स्थिति बनाने के लिए प्रदेश सरकार एवं Basic education department के अधिकारी जिम्मेदार है। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

पढ़ें- Samayojit Shikshak बनाए रखें एकता

पूर्व सीएम सहित अन्य को पार्टी बनाये जाने की तैयारी

B.ed & BTC Morcha ने प्रदेश के पौने दो लाख शिक्षामित्रों को नियम-कानून ताक पर रखकर parishadiya vidyalaya में Assistant Teacher बनाये जाने के Allahabad High Court के मामले को लेकर अब नयी रणनीति बना रहा है। वह अब प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, बेसिक शिक्षा मंत्री राम गोविन्द चौधरी, प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन और सचिव Basic Shiksha Parishad शासन को Shikshamitron के Assistant Teacher बनाये जाने के मामले में कोर्ट में पार्टी बनाने जा रहा है।

पढ़ें- 1.75 lakh Shiksha Mitra 17 वर्षो से पढ़ा रहे हैं, उन्हें इस अनुभव का कुछ वेटेज मिले – कोर्ट

मोर् चेके अभ्यर्थियों का कहना है जिस तरह से हरियाणा में वहां के पूर्वमुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला ने भर्ती के दौरान व्यापक स्तर पर गड़बड़ी किया था ठीक उसी तर्ज पर शिक्षामित्रों के सहायक अध्यापक बनाये जाने के मामले में होना चाहिए कि किस तरह से उनको Assistant Teacher बनाया गया और उनको बचाने के लिए पब्लिक के दिये गये टैक्स के पैसे को पानी की तरह अधिवक्ताओं और Education Department के अफसरों पर बहाया गया है। इस मामले में इन सभी के खिलाफ मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू की जाये एवं पब्लिक के टैक्स के खर्च पैसे की वसूली हो।

शिक्षा विभाग के अफसरों की भी फूल रही है सांस

इलाहाबाद। Basic Shiksha Parishad के अफसरों एंव पूर्व वर्ती सपा सरकार में तैनात Education Department के अफसरों की भी सांस फूल रही है कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में पौने दो लाख शिक्षामित्रों के मामले में क्या फैसला आने जा रहा है।यह अफसर भी पूरी तरह से निराश हो गये है कि उनके पक्ष में फैसला आने की संभावना नही है।

पढ़ें- धैर्य बनाए रखें समायोजित शिक्षक, निराश व हताश न हों शिक्षक, न्याय की उम्मीद

वह लोग मनवीय दृष्टिकोण को अब अपना अंतिम हथियार बना रहे है जबकि नियम विरुद्ध शिक्षक भर्ती को लेकर कोई भी education department का अफसर अब आगे नहीं आ रहा है। education department officials को भरोसा है कि सुप्रीम कोर्ट मानवीय आधार पर shikshamitron की संख्या को देखते हुए उनको manadey पर रख सकता है लेकिन वह High Court Allahabad के चीफ जस्टिस और फुल बेंच द्वारा दिये गये फैसले को पलट नहीं सकता है। वह पूरी तरह से परेशान है।

Assistant Teacher पदों पर Shikshamitron की नियुक्ति को लेकर शुरू होने जा रही रणनीति बड़ी संख्या में B.ed, BTC and Shikshamitra पहुंच रहे दिल्ली

Shikshamitra decision on tomorrow

101 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.