शिक्षामित्रों को मिला अन्‍ना हजारे का साथ

मानदेय में बढ़ोतरी, शिक्षक में वरीयता जैसे सरकारी वादे शिक्षामित्रों को मंजूर नहीं है सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर assistant teacher पद से हटाए shikshamitra नियमितीकरण की मांग कर रहे है। एक जुलाई में लखनऊ में हुई बर्ता में मुख्यमंत्री ने इस सम्बन्ध में निर्णय लेने के लिए 15 दिनों का समय माँगा था। शिक्षा मित्र उसी का इंतजार कर रहे है। इसी बीच स्पष्ट कर दिया गया कि प्रदेश सरकार ने 16 अगस्त तक शिक्षामित्रों के पक्ष में निर्णय नहीं लिया गया तो 17 अगस्त को आर पर कि लड़ाई का निर्णय लिया जायेगा। सुप्रीम कोर्ट ने 1.73 लाख का sahayak adhyapak के पद से समायोजन रद्द कर दिया था इनके अलावा तकरीबन 2600 shikshamitra ऐसे है जिनके sahayak adhyapak बनने का आदेश जारी होता उसके पहले मामला उच्च न्यालय में चला गया, सो वो शिक्षामित्र रह गए। 25 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद शिक्षामित्रों ने धरना प्रदर्शन किया था लखनऊ में शिक्षामित्रों एक प्रतिनिथि मंडल से मुलाकात में मुख्यमंत्री ने निर्णय लेने के लिए 15 दिन का वक्त मांगा था इसके बाद से शिक्षा मित्रों से धरना प्रदर्शन करना बंद कर दिया था यह समय सीमा खत्म होने वाली है लेकिन सरकार कीऔर से अब तक कोई उचित कदम नहीं उठाये जाने से शिक्षामित्रों कि नाराजगी बढ़ती जा रही है।

17 अगस्त से 19 अगस्त तक प्रदेश के सभी बीएसए कार्यलय पर और २1 अगस्त को लखनऊ जुटेंगे: अगले 2 दिनों में सरकार कि और से कोई सूचित निर्णय न लेने से शिक्षा मित्र 17 अगस्त से शुरू करेंगे adarsh samayojit shikshak welfare association ने इस सम्बन्ध में निर्णय ले लिया है 17अगस्त से 19 अगस्त तक प्रदेश के सभी BSA कार्यलय पर तथा 21  अगस्त को लखनऊ के लछ्मण मेला मैदान में सत्याग्रह आंदोलन सुरु होगा। एसोसिएशन के अध्यक्ष जितेंद्र सही और महामंत्री विश्वनाथ कुशवाह ने अंदोलन के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री को अगवत करा दिया है।

शिक्षामित्रों को मिला अन्‍ना हजारे का साथ: समायोजन रद्द होने से नाराज शिक्षामित्र 25 अगस्त को दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे। Uttar Pradesh doorasth BTC shikshak association के प्रदेश अध्यक्ष अनिल यादव ने कहा कि प्रख्यात गांधीवादी व समाजसेवी अन्ना हजारे उनके प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे। इसके लिए हजारे से बात भी की जा चुकी है। रविवार को ग्लोब पार्क में हुई संघ की प्रांतीय कमेटी की बैठक में यादव ने कहा कि शिक्षामित्रों को राहत देने के लिए सरकार अध्यादेश लाए। इससे कम उन्हें कुछ भी मंजूर नहीं।

शिक्षामित्र 15 अगस्त को पूरे प्रदेश में मौन जुलूस निकालेंगे, 16 अगस्त को भाजपा के सांसद, मंत्री और विधायकों को अध्यादेश लाने के लिए ज्ञापन देंगे और 17 अगस्त से ‘संकल्प पत्र पूरा करो, शिक्षामित्रों के लिए अध्यादेश लाओ’ नारे के साथ प्रदेश के सभी जिलों में भाजपा कार्यालयों पर क्रमिक अनशन करेंगे।

इसलिए किया जा रहा है 25 जुलाई तक के वेतन का भुगतान: मामले में सचिव संजय सिन्हा ने स्थिति स्पष्ट करते हुए दिशा-निर्देश जारी किए कि सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय 25 जुलाई को दोपहर के वक्त आया था। इसलिए sahayak adhyapak पद पर samayojit shikshamitra को 25 जुलाई तक का वेतन भुगतान किया जा सकता है।

सचिव ने सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों और Basic education के वित्त एवं लेखाधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं कि वेतन भुगतान अविलंब कर दिया जाएगा।

हालांकि इस बाबत स्थिति स्पष्ट नहीं की गई है कि शिक्षामित्रों को sahayak adhyapak post का वेतन भुगतान बंद होने के बाद कितना मानदेय मिलेगा। हालांकि समायोजन से पूर्व उन्हें प्रतिमाह 3500 रुपये मानदेय के रूप में दिए जा रहे थे।

shikshamitra got favour of Anna Hazare

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.