Revised 1.17 lakhs UPTET Application

      No Comments on Revised 1.17 lakhs UPTET Application

इलाहाबाद : UP Teacher Eligibility 2017 के लिए आवेदन करने वाले one lakh 17 thousand 121 Candidate ने ऑनलाइन फार्म में संशोधन किया है। यह प्रक्रिया मंगलवार शाम पांच बजे पूरी हो चुकी है, अब जिलों में परीक्षा केंद्रों के निर्धारण का सिलसिला तेज हो गया है। इस बार Teacher Eligibility Test में प्राथमिक के लिए साढ़े तीन लाख से अधिक व उच्च प्राथमिक में साढ़े छह लाख के लगभग आवेदन हुए हैं।

पढ़ें- निजी स्कूलों में भी रखें टीईटी पास शिक्षक – केंद्र सरकार

परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय का दावा है कि NIC से मिली सूचना में बीते 15 सितंबर को 10 हजार 524, 16 को 31 हजार 281, 17 को 21 हजार 100, 18 को 28 हजार 910 और 19 सितंबर को 25 हजार 306 अभ्यर्थियों ने अपने Online Application में नाम, पिता का नाम, शैक्षिक योग्यता आदि में संशोधन किया है। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डा. सुत्ता सिंह ने बताया कि प्रवेश पत्र पांच अक्टूबर तक website पर अपलोड कर दिए जाएंगे। इम्तिहान अगले माह 15 अक्टूबर को होगा। उच्च प्राथमिक की परीक्षा सुबह 10 से 12.30 बजे की पाली में व 2.30 से पांच बजे तक की दूसरी पाली में प्राथमिक स्तर की परीक्षा होगी। उन्होंने बताया कि UPTET2017 के लिए 10 लाख नौ हजार 255 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।

पढ़ें- Online Registration Start for UPTET 2017

इनमें से prathamik level examination के लिए तीन लाख 64 हजार 28 जबकि उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए छह लाख 45 हजार 227 अभ्यर्थियों ने दावेदारी की है। संशोधन प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब जिलों में परीक्षा केंद्र निर्धारण की प्रक्रिया शुरू होगी। इसमें इलाहाबाद में सबसे अधिक परीक्षा केंद्र बनने की उम्मीद है। जिला विद्यालय निरीक्षकों को निर्देश है कि वह इसी सप्ताह केंद्र निर्धारण का कार्य पूरा कर दें। इम्तिहान प्रदेश के हर जिले में होना है। इसमें नकल रोकने की जिम्मेदारी जिलाधिकारी को सौंपी गई है।

पढ़ें- UPTET 2017 की परीक्षा एनसीटीई के तय मानकों से होगी

Revised 1.17 lakhs Teacher Eligibility Test Application

Revised 1.17 lakhs Teacher Eligibility Test Application

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.