तदर्थ शिक्षकों के खिलाफ प्रतियोगी हो गए लामबंद

इलाहाबाद : प्रदेश भर के अशासकीय माध्यमिक कालेजों में तैनात Ad hoc teachers का शुरू हो गया है। प्रतियोगियों ने इन Teachers की तैनाती को पद हड़पने की साजिश करार दिया है। उनकी मांग है कि Madhayamik Shiksha Seva Chayan Board के 2016 के विज्ञापन में इन्हें जोड़ा जाए। उसके बाद Written exam हों, ऐसा न होने पर आंदोलन का अल्टीमेटम दिया गया है।

पढ़ें- सहायक अध्यापक भर्ती की पहली लिखित परीक्षा ओएमआर शीट पर नहीं होगी

अशासकीय माध्यमिक कालेजों में 1993 से 2017 तक Ad hoc teachers को तैनाती दी गई है। करीब 34 thousand teachers इन पदों पर इन दिनों काबिज हैं। प्रतियोगियों का कहना है कि माध्यमिक कालेजों में Ad hoc teachers को Manager and District School Inspectors ने साठगांठ करके रख लिया है, और अब वह समान कार्य के आधार पर same salary भी न्यायालय के आदेश से ले रहे हैं, जबकि न्यायालय के आदेश में स्पष्ट है कि चयन बोर्ड से आने तक ही तदर्थ शिक्षकों को रखा जाएगा। चयन बोर्ड से चयनित अभ्यर्थियों के आने पर Ad hoc teachers की Appointment स्वत: समाप्त होनी है, लेकिन अधिकारियों की मिलीभगत से तदर्थ शिक्षकों के पदों का अधियाचन ही चयन बोर्ड भेजा ही नहीं जा रहा है।

पढ़ें- अतिथि की तर्ज पर पढ़ाएंगे लोअर मेरिट के 1259 जेबीटी

प्रबंधक अधिकारियों से मिलकर अधियाचन के पदों पर Appointed teachers को भी ज्वाइनिंग नहीं देते उनके स्थान पर भी Ad hoc teachers को नियुक्त कर लेते हैं, इसीलिए चयन बोर्ड में जितने पदों पर विज्ञापन निकलता है, उतने पदों पर Recruitment नहीं होती, हर बार सीटें घटा दी जाती हैं। यह परंपरा बन गई है। प्रतियोगियों ने बताया कि 2013 के advertisement में हुई भर्ती में 700 teachers को कोर्ट का चक्कर लगाना पड़ रहा है।

पढ़ें- बुधवार तक जारी हो सकता है 2017 का परीक्षा परिणाम, यूपी टीईटी-2017 को लेकर एक और याचिका

24 वर्ष में करीब 34 thousand vacancies पर तदर्थ Ad hoc teachers 2016 के विज्ञापन में इन पदों को जोड़कर exam कराने की मांग

pratiyogee protest against Ad hoc teachers

pratiyogee protest against Ad hoc teachers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *