यूपी शिक्षक भर्ती में 45% अंकों पाने वाले होंगे उत्तीर्ण

इलाहाबाद  Basic Shiksha Parishad के प्राथमिक विद्यालयों की teacher recruitment की Written exam में उत्तीर्ण और अनुत्तीर्ण होने वाले अभ्यर्थियों का नया मानक तय कर दिया गया है। परीक्षा में सामान्य व पिछड़ी जाति के वही अभ्यर्थी सफल माने जाएंगे जिन्हें 45 फीसद अंक मिलेंगे। वहीं, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण होने के लिए 40 फीसद अंक लाना होगा। साथ ही परीक्षा की समय सीमा में भी बदलाव हुआ है अब इम्तिहान तीन घंटे का होगा।

पढ़ें- UPTET 2017 Result से शिक्षामित्रों की आशाओं पर पानी फिरा

परिषदीय स्कूलों के sahayak adhyapak की Written exam पहली बार होनी है। इसके लिए Examination Regulatory Authority Secretary Allahabad UP ने State Council of Educational Research and Training (SCERT) को प्रस्ताव भेजा था। उसमें test pass करने के लिए 60 फीसद अंक अनिवार्य किया था। इसकी वजह यह थी कि Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test यानी UPTET में भी इतने ही फीसदी अंक पाकर अभ्यर्थी सफल होते हैं। विभाग की ओर से कहा गया था कि ऐसे में दूसरी परीक्षा में सफलता का प्रतिशत घटाने का औचित्य नहीं है। यह अंक प्रतिशत सामने आने पर अभ्यर्थी विरोध कर रहे थे, उनका कहना था कि इतना अधिक सफलता प्रतिशत रखना ठीक नहीं है। इसके बजाए सिर्फ certificate की वैधता तय होनी चाहिए। वहीं, SCERT की ओर से स्पष्ट किया गया था कि 60 फीसद अंकों को सफलता का प्रतिशत न माना जाए, बल्कि अभ्यर्थी को written exam में जितने अंक मिलेंगे उसका साठ फीसद अंक मेरिट में जोड़ा जाएगा।

पढ़ें- यूपी टीईटी-2017 को लेकर एक और याचिका

इस परीक्षा की तैयारियों को लेकर मंगलवार को SCERT में education Department के अफसरों की बैठक हुई। इसमें यह प्रकरण प्रमुखता से उठा और candidates की मांग को देखते हुए यह तय किया गया कि परीक्षा में सफल और असफल परीक्षार्थियों का प्रतिशत तय होना जरूरी है, अन्यथा परिणाम तैयार करने के साथ ही योग्य अभ्यर्थियों का नुकसान भी होगा। ऐसे में निर्णय हुआ कि सामान्य व पिछड़ा वर्ग के 45 फीसद अंक पाने वाले अभ्यर्थी परीक्षा में उत्तीर्ण माने जाएंगे, वहीं अनुसूचित जाति व जनजाति का सफलता प्रतिशत 40 होगा। यही नहीं परीक्षा की समय सीमा पहले ढाई घंटे तय हुई थी, उसमें संशोधन करके तीन घंटे कर दिया गया है। इसके बाद परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डा. सुत्ता सिंह ने बुधवार को shikshak bharti का संशोधित प्रस्ताव शासन को भेज दिया है। अब इस पर अंतिम निर्णय और अगले निर्देश वहीं से जारी होंगे। परीक्षा मंडल मुख्यालयों पर ही आयोजित की जाएंगी। माना जा रहा है कि इसी माह भर्ती का विज्ञापन जारी होगा।

पढ़ें- टीईटी-2017 के परिणाम पर असमंजस की स्थिति 

45% marks in the UP teacher recruitment will be passed

need 45% marks for UP teacher recruitment

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *