शिक्षामित्र मामले में अब तक कोई फैसला नहीं

 लखनऊ। samayojit shiksha mitra द्वारा दी गई मियाद के दस दिन पूरे हो गए हैं, लेकिन State government अभी तक किसी निर्णय पर नहीं पहुंच पाई है। शिक्षामित्रों ने सरकार को 15 दिन का समय दिया था कि यदि कोई फैसला नहीं हुआ तो शिक्षामित्र फिर से सड़कों पर उतर आएंगे। samayojit shikshamitra ने 25 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रदर्शन शुरू कर दिया था और primary schools की पढ़ाई ठप कर दी। मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद shikshamitra दो अगस्त से स्कूलों में पढ़ाने वापस चले गए थे। सूत्रों के मुताबिक, अभी तक shikshamitra mandey पर सरकार एकमत नहीं हो पा रही है। finance department 10 हजार रुपये से ज्यादा मानदेय पर राजी नहीं है क्योंकि गैर samayojit shikshamitra को इतना ही मानदेय दिया जाता है जबकि शिक्षामित्रों ने वर्तमान में पा रहे वेतन को ही मानदेय के रूप में देने की मांग की है। वहीं शिक्षामित्र 5-6 बार TET में मौका देने की मांग कर रहे हैं। लेकिन supreme court ने TET में केवल 2 बार मौका देने की बात कही है। इन सब बिन्दुओं पर शिक्षा विभाग न्याय विभाग की राय ले रहा है।

 

नया कानून बनाकर शिक्षामित्रों का समायोजन करे योगी सरकार: अखिलेश यादव

1.72 lakh shikshamitron samayojan radd होने के कारण उनकी रोजी-रोटी पर आए संकट झाया हुआ है इस संकट से बचने के लिए 1.72 lakh shikshamitron को योगी सरकार से नया कानून बनाकर उनके समायोजन की मांग की है यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने

पढ़ें- शिक्षामित्रों का वेतन 17 हजार होने की अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव बुधवार को अयोध्या के पूरा बाजार क्षेत्र के मड़ना स्थित एक निजी विद्यालय में पूर्व विधायक व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी राजबली यादव की 18वीं पुण्यतिथि पर आयोजित देश बचाओ, देश बनाओ सम्मेलन एवं प्रतिमा अनावरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कि हमने तो शिक्षामित्रों को नौकरी दी और भाजपा ने उनके कपड़े उतरवा लिए। आज प्रदेश और केंद्र में भाजपा की सरकार है, नया कानून बनाकर शिक्षामित्रों का समायोजन करना चाहिए।

अखिलेश ने कहा कि गुमराह करके सत्ता में आई भाजपा सरकार से जनता अब महज चार माह में ऊब चुकी है। भाजपा नेता जनता के बीच जाने से डर रहे हैं, जनता इनका मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है, इसी वजह से भाजपाई अब एमएलसी तोड़ रहे हैं। गुजरात की जनता ने तो थोड़ा-बहुत हिसाब-किताब कर दिया है अब यहां की बारी है।

पढ़ें- मुख्यमंत्री से मिले शिक्षामित्र 

TET प्रशिक्षितों की भर्ती रिक्त पदों पर की जाए

प्रतापगढ़ :BTC prashikshu sangh के राघवेंद्र पांडेय ने Primary schools में teachersके रिक्त पदों पर TET प्रशिक्षितों की नियुक्ति करने की मांग की है। मुख्यमंत्री को भेजे ज्ञापन में उन्होंने कहा है कि भाजपा ने अपने संकल्पपत्र में चुनाव पूर्व घोषणा की थी कि सरकार बनने के 90 दिनों के भीतर समस्त रिक्त पदो पर भर्ती प्रक्रिया शुरू करेगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के parishad prathamik school में एक लाख बहत्तर हजार assistant teachers के परद रिक्त हैं। TET passed candidates की संख्या 75000 है। नई भर्ती की मांग के लिए लखनऊ के लक्ष्मणमेला मैदान में 28 जून 2017 से लगातार धरना दिया जा रहा है।

पढ़ें- बी. एड. टी.ई.टी. धारकों ने शिक्षामित्रों के स्थान पर समायोजन की मांग की

उपलब्ध कराई जाए केंद्र निर्धारण संबंधी जानकारी हाईस्कूल एवं इंटर की Board examination के लिए केंद्र निर्धारण से संबंधित जानकारी अभी तक 140 विद्यालयों ने नहीं उपलब्ध कराई है। एक सप्ताह के भीतर यह जानकारी न मिली तो उन्हें examination center बनाने से वंचित कर दिया जाएगा। zila vidyalaya nirikshak डॉ.ब्रजेश मिश्र ने बताया कि इसमें किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी।

No decision yet in the shiksha mitra case

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *