धैर्य बनाए रखें समायोजित शिक्षक, निराश व हताश न हों शिक्षक, न्याय की उम्मीद

Aadarsh Shiksha mitra Welfare Association Uttar Pradesh और Uttar Pradesh Prathmik Shiksha Mitra sangh की बैठक रविवार को अलग-अलग स्थानों पर की गई। इसमें Supreme Court में चल रहे मुकदमें को लेकर चर्चा की गई। दोनों संगठनों ने Samayojit Shikshako को भरोसा दिलाया कि वे धैर्य बनाए रखें। जल्दबाजी में कोई ऐसा कदम न उठाएं जिससे परिवार व समाज के लिए दुखदायी हो। संगठन का मानना है कि सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ताओं का पैनल मुकदमें की पैरवी के लिए खड़ा किया जाएगा। Samayojit Shikshako को किसी तरह से घबराने की जरूरत नहीं है।

पढ़ें- Job crisis of 1.75 Lakh Shikshamitra, 1.75 लाख शिक्षामित्रों की नौकरी संकट में

केन्द्र व प्रदेश सरकार समायोजित शिक्षकों के साथ: एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष दिनेश चन्द्रा की अध्यक्षता में रविवार को हुई बैठक में आठ व नौ मई को सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई के बारे में विचार विमर्श किया गया।

उन्होंने कहा कि कोर्ट में मजबूती से समायोजित शिक्षकों का पक्ष रखने के लिए नामी गिरामी अधिवक्ताओं का पैनल खड़ा किया जाएगा। जिला महामंत्री प्रदीप यादव ने कहा कि संगठन समायोजित शिक्षकों के लिए आरपार का संघर्ष करता रहेगा। सुप्रीम कोर्ट में भी मजबूती से पक्ष रखने की तैयारी बनाई गई है। मीडिया प्रभारी सुतीक्ष्ण तिवारी ने बताया कि केन्द्र और प्रदेश सरकार समायोजित शिक्षकों का पक्ष रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपने अधिकारयों को लगाया है।

पढ़ें- Shikshamitra Samayojan and Teacher Recruitment

उन्होंने कहा कि कोर्ट में मजबूती से समायोजित शिक्षकों का पक्ष रखने के लिए नामी गिरामी lawyers का पैनल खड़ा किया जाएगा। जिला महामंत्री प्रदीप यादव ने कहा कि संगठन समायोजित शिक्षकों के लिए आरपार का संघर्ष करता रहेगा। Supreme Court में भी मजबूती से पक्ष रखने की तैयारी बनाई गई है। मीडिया प्रभारी सुतीक्ष्ण तिवारी ने बताया कि केन्द्र और प्रदेश सरकार Samayojit Shikshako का पक्ष रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपने अधिकारयों को लगाया है।

पढ़ें- Shikshamitron को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिया पैरवी का आश्वासन

Maintain Patience Samyojit Shikshamitra, do not despair and desperate Samyojit Teacher, hope for justice

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *