कासगंज में शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी की आशंका

कासगंज: मथुरा में शिक्षक भर्ती घोटाला खुलने के बाद कासगंज भी जांच के दायरे में आ गया है। यहां भी बड़े घोटाले की आशंका जताई गई है। जांच के लिए शामिल किए गए प्रदेश के सात जिलों में कासगंज भी जोड़ा गया है। जल्द ही एसटीएफ यहां डेरा डालेगी। जांच के नाम से विभाग में खलबली मची हुई है। पिछले दिनों हुई शिक्षक भर्ती में मथुरा में बड़े पैमाने पर गड़बडी हुई। वहां पूर्व बीएसए सहित अन्य जिम्मेदारों पर कार्रवाई हुई है तो शासन और भी जिलों में कार्रवाई के लिए गंभीर हुआ। फिलहाल कासगंज जिले पर नजर घुमाई गई है।

कासगंज में पहले भी घोटाले होते रहे है और फर्जीवाड़े में कई शिक्षकों की नौकरी भी जाती रही है। इसलिए इस जिले को जांच में प्राथमिकता से शामिल किया गया है। वैसे तो पूर्व में भी हुई भर्तियों की जांच होगी लेकिन पिछले दिनों 12 हजार से अधिक जो भर्तियां हुई, उनमें 32 अभ्यर्थी कासगंज में शामिल थे, उनकी जांच प्रमुखता के साथ होगी। एसटीएफ ने कासगंज की ओर रूख कर लिया है। एसटीएफ के सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वैसे तो आगरा मंडल के सभी जिले जांच में शामिल है। लेकिन कासगंज में कई बार फर्जीवाड़ा पकड़ा गया है। इसलिए इस जिले की जांच प्राथमिकता से होगी। एसटीएफ जल्द ही कासगंज में डेरा डाल देगी और भी कई ¨बदुओं पर जांच होगी। इधर विभाग में इस बात को लेकर खलबली है कि कासगंज जिला जांच के दायरे में है।

आखिर कैसे दबी जांच वर्ष 2010 में कासगंज जिले में आधा दर्जन फर्जी शिक्षकों भर्ती हुई थी। पिछले साल तत्कालीन डीएम के विजयेंद्र पांडियन ने शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया, लेकिन धीमे-धीमे यह जांच ठंडे बस्ते में चली गई। इसमें कई जिम्मेदार दोषी भी थे। माना जा रहा है कि एसटीएफ इस फर्जीवाड़े को जांच में शामिल करेगी। सीओ, बीएसए को मिली जांच पिछले दिनों कमलकिशोर नाम के इस व्यक्ति ने बेसिक शिक्षा विभाग में घोटाले, फर्जीवाड़े और अनभिज्ञताओ की प्रमाण सहित शिकायत मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक को भेजी, जिस पर शासन से गंभीरता दिखाई। मुख्य सचिव ने डीएम के माध्यम से बीएसए को जांच सौंपी है तो डीजीपी ने एसपी के माध्यम से पुलिस क्षेत्रधिकारी सदर को दी है।

पढ़ें – तीन साल में तीन बड़े शिक्षक भर्ती घोटाले

मामला संज्ञान में नहीं मैं फिलहाल छुटटी पर हूं, कासगंज जिला जांच में शामिल है, इस तरह की जानकारी मेरे संज्ञान में नहीं है। यदि अनियमितता होगी तो जांच में सच्चई सामने आएगी। विस्तृत जानकारी की जाएगी। मनोज गिरि, डायट प्राचार्यkasaganj shikshak bharti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.