जिले में कई बेसिक स्कूल एक शिक्षक के भरोसे

मुरादाबाद जिले में कई बेसिक स्कूल एक शिक्षक के ही भरोसे चल रहे हैं। ऐसे हालात में व्यवस्था कैसे संभलेगी यह अफसर भी जानते हैं लेकिन अटैचमेंट के खेल में विद्यालय एकल होते जा रहे हैं। शिक्षक के पास सिर्फ पढ़ाने का काम ही नहीं है। उन्हें मिड-डे मील बनवाना, राशन का इंतजाम करना, सिलेंडर खाली हो जाए तो उसे भरवाने से लेकर शासन व बीएसए स्तर से मांगी गई सूचनाओं के प्रपत्र भी तैयार करने भेजने पड़ते हैं। अभी और भी एकल हो जाएंगे स्कूल : अब अंतरजनपदीय स्थानांतरण के आदेश सचिव ने कर दिए हैं। इससे एकल स्कूल और भी हो सकते हैं। मुरादाबाद जिले से जो शिक्षक अपने गृह जनपद में जाएंगे तो उससे यह स्थिति आएगी। हालांकि दूसरे जनपद से भी शिक्षक स्थानांतरित होकर आने हैं लेकिन यह शिक्षक भी अपनी सहूलियत के अनुसार पास के स्कूलों में ही तैनाती के लिए जोर आजमाइश करेंगे।

Case 1- बिलारी के प्राइमरी स्कूल, ग्राम मकरन में 124 बच्चे हैं और शिक्षक एक है। जबकि मानक एक शिक्षक पर 35 बच्चों का है। इस हिसाब से चार शिक्षक होने चाहिए। इस स्कूल में हेड मास्टर अशोक कुमार शारीरिक रूप से दिव्यांग हैं। इनके ऊपर मिड-डे मील बनवाने, सूचनाएं भेजने और पढ़ाने की जिम्मेदारी है। उनका कहना है कि 2017 में चार शिक्षक थे लेकिन अब वह अकेले रह गए हैं।

Case 2- नगर क्षेत्र में नवाबपुरा स्थित कन्या प्राइमरी स्कूल में 77 बच्चे हैं। इस स्कूल में अकेले हेड मास्टर विमल किशोर पिछले ढाई साल से हैं। नगर के स्कूलों में मानक से ज्यादा शिक्षकों की भरमार है लेकिन इस स्कूल में एक ही शिक्षक है। हेड मास्टर का कहना है कि इस बारे में कई बार विभाग को बता चुके हैं।

Case 3- बिलारी के हाथीपुर बुद्दीन स्थित प्राइमरी स्कूल में 50 बच्चे हैं। इस स्कूल में एक शिक्षामित्र हैं। नए सत्र में तीन शिक्षक थे लेकिन यू डायस पर जो सूचना शासन को भेजी है उसमें एक शिक्षक है। शिक्षामित्र सोनी सिंह कहती हैं कि शिक्षा मित्र समेत दो शिक्षक और थे।

Case 4- डिलारी के बहादुरगंज स्थित प्राइमरी स्कूल में 50 बच्चे हैं, इसमें भी एक सहायक अध्यापक है। हेड मास्टर न होने से इनको ही पढ़ाने से लेकर सभी काम देखने पड़ते हैं। सहायक अध्यापक सुशील कुमार कहते हैं कि जुलाई से स्कूल खुलेंगे तो अकेले बच्चों की पढ़ाई व सूचनाएं देने के काम में दिक्कत आएगी।

Case 5- नगर क्षेत्र का गांधी पार्क स्थित प्राइमरी स्कूल भी एकल शिक्षक के भरोसे चल रहा है। इस स्कूल में एबीआरसी का कार्यालय भी है। बच्चों की संख्या करीब 40 है। हालांकि मानक से पांच ही बच्चे अधिक हैं लेकिन दो शिक्षकों की जरूरत यहां भी है। हेड मास्टर सुशीला देवी ने इस विषय में कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया।

अंतरजनपदीय स्थानांतरण के आदेश हो गए हैं। दूसरे जनपद से जो शिक्षक आएंगे उनको काउंसिलिंग के जरिए पहले एकल स्कूलों में ही भेजा जाएगा। इसमें बच्चों के मानक का पूरा ख्याल रखा जाएगा। – योगेंद्र कुमार, बीएसए

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.