शिक्षकों के अंतर जिला तबादले की अभी नहीं बढ़ी तारीख

इलाहाबाद : परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों के अंतर जिला तबादले को आवेदन लेने की तारीख अभी नहीं बढ़ी है। शासनादेश में संशोधन के लिए प्रकरण शासन में अभी लंबित है। सूत्रों की मानें तो अगले दो दिनों में नया निर्देश आने का इंतजार है, उसके बाद फिर आवेदन लिए जाएंगे। फिलहाल पूर्व की समय सारिणी के हिसाब से वेबसाइट बंद हो गई है। करीब 12 हजार से अधिक शिक्षकों ने दावेदारी की है।

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों का अंतर जिला तबादला प्रक्रिया चल रही है। 13 जून 2017 को जारी शासनादेश के अनुरूप परिषद ने शिक्षकों से ऑनलाइन आवेदन लिए हैं। आवेदन लेने की मियाद सोमवार को शाम पांच बजे तक थी, ऐसे में वेबसाइट बंद हो गई है। सूत्रों की मानें तो करीब 12 हजार से अधिक शिक्षकों ने आवेदन किए हैं। इसी बीच हाईकोर्ट में दाखिल अध्यापिकाओं की याचिका पर हुए आदेश को शासन को भेजा गया है। इसमें पांच वर्ष से कम सेवा वाली शिक्षिकाओं को अंतर जिला तबादले का लाभ दिया जाना है। यह प्रकरण बेसिक शिक्षा परिषद मुख्यालय ने शासन को भेज दिया है। वहां से अब तक इस संबंध में निर्देश जारी नहीं हो सका है। माना जा रहा है कि इस पर दो दिन में निर्देश आ सकता है, जिसमें आवेदन लेने की मियाद बढ़ेगी, इसके बाद वेबसाइट में भी संशोधन होगा। उसी के बाद अध्यापिकाएं आवेदन कर सकेंगी। सोमवार को आवेदन की अंतिम तारीख होने के कारण प्रदेश भर में हजारों शिक्षिकाएं आवेदन का प्रयास करती रहीं, लेकिन हर बार उनका आवेदन इनवैलिड हो रहा था। इससे शिक्षक परेशान रहे। सूत्रों की मानें तो आवेदन करने की समय सीमा में बढ़ना लगभग तय है इसी सप्ताह परिषद फिर अगले निर्देश जारी करेगा।

पांच वर्ष से कम समय सेवा वाली अध्यापिकाओं के आवेदन के बाद दावेदारों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी होगी, क्योंकि अभी पांच साल की सेवा वाले शिक्षक-शिक्षिकाओं की संख्या काफी है, जो अपने जिलों में लौटना चाहते हैं। कोर्ट पहले ही स्पष्ट कर चुका है, अंतर जिला तबादला रिक्त पदों के 25 फीसदी सीटों के सापेक्ष ही होंगे। फरवरी में नए आवेदन होने से तबादला प्रक्रिया मार्च में ही पूरी हो पाने की उम्मीद है।

पढ़ें- Court Refuses Interference in TET 2017 Result

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.