स्कूल में मिली गंदगी तो गुनहगार होंगे गुरुजी

गंदगी को लेकर सरकार की सख्ती को देखते हुए बेसिक शिक्षा विभाग ने भी कमर कस ली है। स्कूलवार अध्यापकों को साफ-सफाई की जिम्मेदारी स्वयं निभाने का निर्देश दिया गया है। बर्तन से लेकर रसोई, भवन व परिसर तक की सफाई अध्यापकों को सौंपी गई है। गंदगी मिलने पर निलंबन की कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित स्कूलों में गंदगी को लेकर मुहिम शुरू की जाएगी। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारियों को एक जुलाई से पहले परिसर को साफ सुथरा कराने का निर्देश दिया है। इसमें ग्राम पंचायत में तैनात सफाई कर्मी के साथ ही अध्यापक खुद भी गंदगी हटाएंगे। स्कूल खुलने से पहले ही परिसर में उगी घासों को हटाने समेत सभी प्रकार की गंदगी को दूर करना है। जिससे स्कूल खुलने पर बच्चों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।

सफाई की पड़ताल करने के लिए खंड शिक्षा अधिकारी को एक से 15 जुलाई तक स्कूलों का निरीक्षण करने का निर्देश दिया गया है। मिड डे मील में प्रयोग होने वाले बर्तनों को विशेष रूप से साफ रखने का निर्देश दिया गया। इसके साथ ही हैंडपंप, शौचालय खराब होने की सूचना देने के लिए कहा गया है। जिससे समय रहते अधिकारियों को सूचित कर व्यवस्था दुरुस्त कराई जा सके। सफाई व्यवस्था में लापरवाही करने वाले अध्यापकों पर कार्रवाई करने निर्देश दिया है।

1 जुलाई से स्कूल खुल रहे हैं। इससे पहले विद्यालय परिसर, कमरे, बर्तन आदि की सफाई करने का निर्देश दिया गया है। ताकि स्कूल खुलते ही सुचारू रूप से शिक्षण कार्य शुरू हो सके। बीईओ को निरीक्षण करने की जिम्मेदारी दी गई है। गंदगी मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। – संतोष कुमार देव पांडेय बेसिक शिक्षा अधिकारी गोंडा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *