वित्तविहीन शिक्षकों की मांगों पर सरकार विचार करेगी – रीता बहुगुणा जोशी

लखनऊ : vittvihin Teachers की मांगों पर government विचार करेगी। vittvihin Teachers को उनका हक मिलेगा। किसानों की कर्जमाफी के चलते इस बार Economic pressure रहा है, मगर आगामी Budget में vittvihin Teachers के लिए arrangement किया जायेगा। यह कहना था सूबे की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी का। वह सोमवार को madhyamik vittvihin shikshak mahasabha के प्रांतीय अधिवेशन में बोल रहीं थीं।

पढ़ें- तदर्थ शिक्षकों के खिलाफ प्रतियोगी हो गए लामबंद

madhyamik vittvihin shikshak mahasabha का प्रांतीय अधिवेशन झूलेलाल वाटिका में संपन्न हुआ। इसमें बड़ी तादाद में vittvihin shikshak शामिल हुए। इस दौरान विधायक उमेश द्विवेदी, एमएलसी संजय मिश्र, एडवोकेट अजय सिंह, अशोक राठौर समेत तमाम लोग मौजूद रहे। महासभा की ओर से ज्ञापन में कई प्रस्ताव रखे गए।

पढ़ें-  सहायक अध्यापक भर्ती की पहली लिखित परीक्षा ओएमआर शीट पर नहीं होगी

ये हैं ज्ञापन में रखे गए प्रस्ताव

  • शासन द्वारा निर्धारित कुशल श्रमिक के बराबर मानदेय की व्यवस्था आगामी बजट में की जाए।
  • vittvihin shikshak का वास्तविक डाटा जिला विद्यालय निरीक्षक से लेकर सरकार तक सुरक्षित रखा जाए।
  • vittvihin vidyalaya में पढ़ा रहे Teachers को कार्य के आधार पर पूर्णकालिक शिक्षक पदनाम दिया जाए।
  • परिषद द्वारा मान्यता की धारा 7 (क) को परिवर्तित कर धारा 7 (4) के अंतर्गत मान्यताएं प्रदान की जाएं।
  • विगत 3 वर्षो से कार्यरत Untrained teachers को प्रशिक्षण से मुक्ति प्रदान करके मानदेय में शामिल किया जाए।
  • उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार 135 उच्चीकृत जूनियर विद्यालयों को अनुदानित किया जाए।
  • ’जिला केंद्र निर्धारण सहित समस्त समितियों में वित्तविहीन विद्यालय के प्रधानाचार्यो को भी सदस्य बनाया जाए।
  • वित्तविहीन विद्यालयों में कार्यरत Principal, teacher, शिक्षेत्तर कर्मचारियों के लिए सरकार द्वारा insurance policy लागू करायी जाए।
  • परीक्षकों की नियुक्ति में वित्तविहीन शिक्षकों को आनुपातिक स्थान दिया जाए।
  • वित्तविहीन विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र छात्रओं को राजकीय, एडेड की भांति एमडीएम, पुस्तकें, ड्रेस आदि सरकारी सुविधाएं सरकार द्वारा दी जाएं।
  • Ad hoc teachers को विनियमित किया जाए एवं Professional & Computer Teachers की समस्याओं का तत्काल समाधान कराते हुए सभी शिक्षकों एवं कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना बहाल की जाए।

पढ़ें- अतिथि की तर्ज पर पढ़ाएंगे लोअर मेरिट के 1259 जेबीटी 

Government will consider the demands of vittvihin teachers. vittvihin teachers will get their right. This year, due to the debt waiver of farmers, there is an economic pressure, but arrangements will be made for vittvihin teachers in the upcoming budget. It was to say that the minister of the province Rita Bahuguna Joshi He was speaking on Monday at the Regional convention of madhyamik vittvihin shikshak mahasabha

Government will consider the demands of vittvihin teachers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *