गाज़ी इमाम आला ने शिक्षामित्रों का हौसला बढ़ते कहा पुनर्विचार याचिका से काफी उम्मीद

लखनऊ: समायोजन को लेकर उत्तर प्रदेश के शिक्षामित्रों का संघर्ष अभी जारी है। शिक्षामित्र संगठन निरंतर शिक्षामित्रों के साथ बैठक कर उनकी हौसला अफजाई कर रहे। जिस प्रकार शिक्षामित्र आत्महत्या कर रहे है वो इन बैठकों से रुक सके। शिक्षामित्र संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष गाज़ी इमाम आला ने शिक्षामित्रों को हौसला बढ़ाया। गाज़ी का कहना है कि शिक्षामित्र दुबारा शिक्षक बनेंगे। उन्होंने कहा संगठन 2 महीने में शिक्षामित्रों को बड़ी रहत दिलाने की कोशिश में लगा है। दिनाँक 29-10-2017 को लखनाऊ के दारुल शफा में उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ की बैठक में गाज़ी इमाम आला ने शिक्षामित्र सुप्रीम कोर्ट में नहीं हरे उनको हराया गया था। उन्होंने आगे बोलते हुऐ कहा शिक्षामित्रों के मनोबल को तोड़ने की बार बार कोशिश की जा रही है। दमन कारी नीति अपनाई गयी है। इन परिस्थितियों में लड़ कर शिक्षामित्र और मजबूत हुआ है। गाज़ी ने कहा कि विपरीत परिस्थितियों में संघर्ष करने वाला संगठन हमारा है।

पढ़ें- 36 शिक्षामित्रों की संविदा समाप्त करने वाले प्रदेश सरकार के आदेश पर हाईकोर्ट की रोक

उन्होंने बताया कि केवल उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ द्वारा माननीय सुप्रीम कोर्ट में पुनः विचार याचिका दाखिल की है। कोर्ट ने इस पुनः विचार याचिका को स्वीकार भी कर लिया है। उम्मीद की जा रही है कि अगले हफ्ते हर हाल में डेट मिलने की संभावना है। उन्होंने आगे बताया कि कुछ संगठनों और विद्वानों द्वारा बताया जा रहा है कि पुनः विचार याचिका 100% सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दी है। गाजी ने शिक्षामित्रों को विश्वास दिलाते हुए कहाकि पुनः विचार याचिका 100% ख़ारिज नहीं होगी उसकी सुनवाई की पूरी संभावना है। पुनः विचार याचिका की पैरवी हम बड़े ही सही ढंग से की जा रही हैं। भारत के जाने माने वकील श्री हरीश साल्वे जी को हायर कर उनके के द्वारा पुनः विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की है। उन्होंने विश्वास दिलाया है। यदि कोर्ट ओपेन कोर्ट में सुनवाई करेगी तो मैं शिक्षामित्रों को न्याय दिलाने के लिये बहस के लिये तैयार हूँ। मामले की सुनवाई ओपेन कोर्ट में कैसे हो इसके लिये भी संगठन प्रयास रत है।

पढ़ें- प्रशिक्षु शिक्षक के रूप में चयनित शिक्षामित्रों को हाईकोर्ट से राहत नहीं

संगठन सभी पहलुओं पर तैयारी कर रहा है यदि चेंबर में सुनवाई होती है तो वरिष्ठ अधिवक्ता शान्ति भूषण जी को तैयार रखा गया है। अगर किसी कारण वश पुनः विचार याचिका में शिक्षामित्रों को राहत नहीं मिलती है, तो संगठन संविधान पीठ तक लड़ाई लड़ेगा। संगठन शिक्षामित्रों को पुनः शिक्षक बनाने के अपने वादे से पीछे नहीं हटेगा।

पढ़ें- 60 दिन में शिक्षामित्रों को बनाएंगे सहायक अध्यापक – रामगोविंद चौधरी

एटा शहीद पार्क में संडे को हुई संयुक्त शिक्षामित्र संघर्ष समिति की बैठक में शिक्षामित्रों ने एलान किया कि वो अपने अधिकार की लड़ाई जारी रखेंगे। सर्वोच्च न्यायालय में दाखिल पुनः विचार याचिका से शिक्षामित्र आस लगये बैठे है। बैठक में जिला संयोजक राजेश यादव ने कहा कि पूर्व निर्णय के बाद शिक्षामित्र संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष गाज़ी इमाम आला ने सुप्रीम कोर्ट में पुनः विचार याचिका। जिस पर जल्दी ही सुनबाई होने की संभावना है। सह संयोजक मनोज यादव, अवधेश यादव ने कहा कि हम शासन और प्रशासन के अत्याचारों के आगे झुकने वाले नहीं है। बैठक में मो. इशाक, हरिओम प्रजापति, राष्ट्रदीप चौधरी, एस. के राजपूत, सुनील चौधरी आदि मौजूद थे।

Gazi Imam Ala encourages the Shiksha Mitra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *