अशिक्षा पर वार कर रहे चार यार

संतकबीर नगर एक वर्ष पहले मेहदावल के टड़वरिया चौराहे की एक चाय की दुकान पर चाय की चुस्कियों के दौरान चार दोस्तों के बीच शिक्षा के प्रसार के बारे में चर्चा होने लगी। इस दौरान सभी ने गरीबी के कारण उच्च शिक्षा नहीं प्राप्त कर पाने वाले होनहारों के लिए कुछ करने पर विचार विमर्श किया। इसके लिए एक संस्था बनाने का निर्णय लेकर सभी ने कार्य आरंभ करने का फैसला लिया। अब यह कार्य शुरू हो गया।

प्राथमिक शिक्षक हैं चारों मित्र : वयम संस्था के संचालक चारों मित्र प्राथमिक शिक्षक हैं। इसमें सर्वेश त्रिपाठी एलएलबी बीएड है, वह चनहवा मेंहदावल में शिक्षक हैं। डा. रमन एमए, पीएचडी, बीएड हैं और वह जूनियर हाई स्कूल घोरहट में शिक्षक हैं। वैभव शुक्ल एमए और बीटीसी हैं वह जूनियर हाई स्कूल विसौवा तथा अनूप सिंह एमएससी बीएड हैं और वह जूनियर हाई स्कूल ददरी में शिक्षक हैं। उक्त शिक्षकों का कहना है कि मई से छात्रों को दो घंटे निश्शुल्क शिक्षा देंगे। इसके लिए मेहदावल में जगह तलाशी जा रही है। सभी छात्रों को कापी-किताब, फीस एवं अन्य सामग्री मुहैया कराई जाएगी।

परीक्षा के बाद हुए चयनित: चारों मित्रों ने मेहदावल क्षेत्र के करीब एक दर्जन प्राथमिक एवं जूनियर हाई स्कूल में संपर्क कर गरीब बच्चों को परीक्षा में शामिल होने के लिए बुलाया। 26 मार्च को बाबू छेदी सिंह इंटर कालेज में परीक्षा आयोजित की गई। इसमें कुल 21 बच्चों का चयन किया गया।

क्या है लक्ष्य: उनका कहना है कि गरीबी के कारण पढ़ाई नहीं कर पाने वाले किसी होनहार को सफल बना दिया जाय तो इससे मन को सुकून मिलेगा। उनका लक्ष्य हर वर्ष इस प्रकार के बच्चों को चुनकर मदद करने का है जो वास्तव में पढ़कर कुछ बनना चाहते है। उन्होंने कहा कि सभी बच्चों को 12वीं तक की पढ़ाई का खर्च हम मिलकर उठाएंगे। हर वर्ष 21 छात्रों का चयन कर उन्हें पढ़ाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.