टीईटी पास कराने को वसूली एक करोड़ से अधिक की रकम

Special Task Force (STF) ने Teacher Eligibility Test (TET) के दौरान पकडे दो मुन्नाभाई से पूछताछ में बड़ा रहस्योद्घाटन किया। शिक्षा माफिया के सॉल्वर गैंग का साम्राज्य देश के छह राज्यों में फैला है। यह अभ्यर्थियों के साथ धोखाधड़ी कर लाखों पैसे कमाता है। शिक्षा माफिया के इस गैंग ने TET के 48 अभ्यर्थियों को अपने झांसे में फसा कर उनसे लगभग एक करोड़ रुपये से अधिक की रकम वसूली थी। एसटीएफ ने अब सिविल पुलिस के साथ मिलकर इस गरोह की तलाश करने में जुट गई है।

पढ़ें- UPTET 2017 Answer Keys Released

15 अक्टूबर को हुई Teacher Eligibility Test के दौरान बड़ौत के जनता वैदिक इंटर कालेज से एसटीएफ मेरठ ने विनय निवासी बावली व रविंद्र निवासी मोहनपुर तहसील फरीदपुर बरेली, हाल निवासी गौड़ सिटी नोएडा को गिरफ्तार था। ये अभियुक्त किसी दूसरे के स्थान पर देते पाए गए। पकडे गए अभियुक्तों में से विनय जिला पंचायत का चुनाव भी लड़ चुका है। एसटीएफ की पूछताछ में दोनों ने अपना गुनाह स्वीकार किया है। उन अभ्यर्थियों को झांसा दिया गया था कि वह Teacher Eligibility Test अच्छे अंकों से उत्तीर्ण करा देंगे।

पढ़ें- शिक्षामित्र संगठनों ने शिक्षक पात्रता परीक्षा को बताया एक धोखा

सूत्रों के अनुसार इस गिरोह के तार उप्र. के अलावा हरियाणा, दिल्ली, पंजाब, राजस्थान और महाराष्ट्र से भी जुड़े हैं। पहले भी इस गरोह पर प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रश्न पत्र आउट करने के आरोप लगे हैं। अभी तक गिरोह के मास्टमाइंड का पता नहीं चल सका है। पता चला है कि गिरोह कुछ कोचिंग सेंटर संचालकों की मदद से अभ्यर्थियों को फंसाता है। सीओ बड़ौत रामानंद कुशवाहा ने बताया कि आरोपियों से कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं। एसटीएफ व पुलिस गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश में जुटी है।

पढ़ें- UPTET 2017 परीक्षा में सवा लाख शिक्षामित्र हुए शामिल 

Recovery of TET passes more than one crore rupees

Recovery of TET passes more than one crore rupees

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *