CTET Question Paper of Hindi Language with Answer

CTET Question Paper- II with Answer of Hindi Language Part-1

निर्देश : कविता की पंक्तियाँ पढ़कर निम्नलिखित (प्रश्न संख्या 1-6) में सबसे उचित विकल्प चुनिए |

मेघ आए, बड़े बन- ठन के सँवर के
आगे-आगे नाचती गाती बयार चली
दरवाजे- खिड़कियां खुलने लगीं गली-गली
पाहून ज्यों आए हों गाँव में शहर के।
मेघ आए, बड़े बन- ठन के सँवर के
पेड़ झुक- झाँकने लगे गर्दन उचकाए
आँधी चली, धूल भागी घाघरा उठाए,
बाँकी चितवन उठा नदी ठिठकी घूँघट सरके।
मेघ आए, बड़े बन- ठन के सँवर के।
बूढ़े पीपल ने आगे बढ़कर घर की
बरस बाद सुधि लीन्ही
बोली अकुलाई लता ओट हो किवार की
हरसाया ताल लाया पानी परात भर के
मेघ आए, बड़े बन- ठन के सँवर के
क्षितिज-अटारी गहराई दामिनी दमकी,
क्षमा करो गाँठ खुल गई अब भरम की
बाँध टुटा झर-झर मिलन के अश्रु ढरके,
मेघ आए, बड़े बन- ठन के सँवर के।

Q.1- ‘मेघ आए, बड़े बन- ठन के सँवर के’ पंक्ति का भाव किसमें है?
1- बादलों ने सूरज को ढक लिया है
2- बादलों ने बिजली से श्रृंगार किया है
3- बादल सज- धज कर आए हैं
4- भूरे- काले बादल आकाश में घिर आए हैं

Ans-3- बादल सज- धज कर आए हैं

Q.2- मेघों के आने से लगता है
1- बादल आसमान में छा गए हैं
2- मानों कहीं उत्सव मनाया जा रहा है
3- मानों गाँव में शहर से मेहमान आए हों
4- उपरोक्त में से कोई नहीं

Ans-3- मानों गाँव में शहर से मेहमान आए हों

Q.3- ‘बरस बाद सुधि लीन्ही’-इस पंक्ति का भाव किसमें है?
1- बादल एक बरस के बाद आए हैं
2- बादलों ने याद किया है
3- बादल बन सँवर कर आए हैं
4- बादल मेहमान बन कर आए हैं

Ans-1- बादल एक बरस के बाद आए हैं

Q.4- पूरी कविता में कौन-सा अलंकार हैं ?
1- श्लेष अलंकार                   2- रूपक अलंकार
3- मानवीकरण अलंकार         4- उत्प्रेक्ष अलंकार

Ans-1- श्लेष अलंकार 

Q.5- बूढ़े पीपल ने किस प्रकार मेघों का स्वागत किया?
1- झुककर प्रणाम करके
2- प्रसन्न होकर
3- गले लगाकर
4- उलाहना देकर

Ans – उलाहना देकर

Q.6- ‘पाहुन’ शब्द का क्या अर्थ हैं?
1- आना           2- पालना
3- मेहमान       4- पैर

Ans.3-मेहमान

निर्देश :गधांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों (प्र.सं .7 से 15) में सबसे उचित विकल्प को चुनिए।

गिजुभाई न केवल बच्चों की क्षमताओं, बौद्धिकता में विश्वास व्यक्त करते हैं अपितु वे उनकी सृजनात्मकता में भी अगाध आस्था रखते हैं।उनके अनुसार कुछ हत्याएं पीनल कोड की धारा के अधीन नहीं आती। उनमें क़ानूनवेत्ताओं को अपराध जैसी कोई चीज़ें नज़र नहीं आतीं। क़ानूनवेत्ताओंकी न्याय नीति-सम्बन्धी मर्यादाएं सिर्फ पीनल कोड से बँधी होती हैं।

शिक्षाशास्त्रियों के पास राज्य, रूढ़ि अथवा धर्म की कोई सत्ता नहीं है इसलिए जीवन के प्रति जो अपराध होते हैं उनके लिए न कोई पीनल कोड, न कोई उन्हें निंदनीय मानता,न कोई धार्मिक भय है। जीवन के प्रति होने वाला एक ऐसा ही अपराध है-बालक की सर्जन शक्ति की हत्या। ईश्वर ने मनुष्य का सर्जन किया और उसे अपनी सृजन शक्ति प्रदान की। मनुष्य के सर्जन की अनंत शक्ति के समान ही अगणित है। साहित्य एक सर्जन है,चित्रकला दूसरा सृजन है, संगीत तीसरा सृजन है और स्थापत्य चौथा सृजन है । इस तरह गिनने बैठा जाए तो मनुष्य के द्वारा बनाई गई अनेकानेक कृतियों को गिनाया जा सकता है । जब शिक्षक या अभिभावक यह तय करते हैं कि बच्चे को क्या करना चाहिए, क्या नहीं करना चाहिए – वस्तुतः इन निर्णयों में ही वे बालक कि सर्जन शक्ति का दमन करते हैं।

Q.1- गिजुभाई का किसमेँ विश्वास नहीं है ?
1- उनकी रचनात्मकता में
2- उनके भविष्य का निर्णय शिक्षकों ऐंवम अभिभावकों द्वारा तय करने में
3- बच्चों की बौद्धिकता में
4- उनकी क्षमताओं में

Ans.2- उनके भविष्य का निर्णय शिक्षकों ऐंवम अभिभावकों द्वारा तय करने में

Q.2- कौन-सा अपराध पीनल कोड की धारा के अधीन नहीं आता है
1- बालक की सर्जन शक्ति का दमन
2- रिश्वत लेना
3- धोखाधड़ी करना
4- चोरी करना

Ans.1- बालक की सर्जन शक्ति का दमन

Q.3- ‘बच्चे क्या करें और क्या न करें’ जब शिक्षक और अभिभावक यह तय करते हैं तब
1- बच्चे में रचनात्मकता भर जाती है
2- अभिभावक व बच्चों के संबंधों में प्रगाढ़ता आती है
3- बच्चे में पढ़ने-लिखने के प्रति रूचि जाग्रत हो जाती है
4- बच्चे में सृजन शक्ति का दमन होता है

Ans.4- बच्चे में सृजन शक्ति का दमन होता है

Q.4- निम्नलिखित में से ‘सृजन’ के अंतर्गत नहीं आता है
1- किसी विषय पर अपने विचार लिखना
2- प्रश्नों के उत्तर रटना
3- कहानी-लेखन
4- मिट्टी से खिलौने बनाना

Ans.2- प्रश्नों के उत्तर रटना

Q.5- ‘साहित्य’ शब्द में ‘इक’ प्रत्यय लगाने पर शब्द बनेगा
1- साहित्यीक    2- सहित्यिक
3- साहित्यिक    4- साहित्यक

Ans.3- साहित्यिक 

Q.6- ‘समान’ का विलोम शब्द है
1- सामना         2- असमानता
3- सामान         4- असमान

Ans.4- असमान

Q.7- ‘ईश्वर’ का पर्यायवाची नहीं है
1- जगदीश      2- परमेश्वर
3- परमात्मा     4- ब्रह्मा

Ans.4- ब्रह्मा

Q.8- न्याय-नीति में ………समास है
1- कर्मधारय     2- द्व्न्द समास
3- अव्ययीभाव   4- तत्पुरुष

Ans.2- द्व्न्द समास

Q.9- बौद्धिक,ऐतिहासिक शब्दों में मूल शब्द तथा प्रत्यय हैं
1- बौद्ध (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय, ऐतिहास (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय
2- बुद्ध (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय, इतिहास (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय
3- बौद्धि(मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय, ऐतिहास (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय
4- बुद्धि (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय, इतिहास (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय

Ans.4- बुद्धि (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय, इतिहास (मूल शब्द)+ ‘इक’ प्रत्यय

I hope आपकोहमारीये post पसंदआयीहोगीआपइस post में comment करकेअपना feedback हमेंदेसकतेहैऔरआपइसपोस्टकोज्यादासेज्यादा social media पर share करेंताकिऔरलोगभीइस post का benefit उठासकें।

आपहमारे blog कोभी subscribe करसकतेहैजिससेआपकोहमारी blog की latest post का notification मिलसके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *