बीटीसी का जल्द ही नाम बदलकर डीएलएड होगा 2016 में दाखिले के लिए आवेदन अगले सप्ताह से लिए जाने की उम्मीद है

बीटीसी (जल्द ही नाम बदलकर डीएलएड होगा) 2016 में दाखिले के लिए आवेदन अगले सप्ताह से लिए जाने की उम्मीद है। शासन ने बीटीसी के दाखिले में बदलाव पर मुहर लगाकर आदेश जारी कर दिया है। अब महिला-पुरुष और विज्ञान-कला के आधार पर अभ्यर्थियों को प्रवेश नहीं मिलेगा, बल्कि प्रवेश का आधार उनकी शैक्षिक मेरिट होगी। साथ ही इस बार से ऑनलाइन काउंसिलिंग भी कराई जाएगी।

परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव ऑनलाइन आवेदन लेने की तारीख का मंगलवार को ही एलान कर सकती हैं। 1 बीटीसी 2016 में दाखिले का मुहूर्त तय होने की घड़ी आ गई है। इसकी प्रक्रिया पहले जनवरी-फरवरी माह में शुरू होनी थी, लेकिन विधानसभा चुनाव की आचार संहिता के बाद वह अधर में अटक गई। राज्य शिक्षा व प्रशिक्षण संस्थान उप्र यानी एससीईआरटी के निदेशक डा. सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह ने बीते मार्च में परीक्षा नियामक का प्रस्ताव मिलने के बाद एनआइसी के अफसरों से वार्ता की।

पिछले सत्र तक महिला व पुरुष को आधी-आधी सीटें विभाजित की जाती हैं, फिर दोनों संवर्गो को विज्ञान व कला विषय में सीटें विभाजित की जाती हैं। इसके बाद आरक्षण व विशेष आरक्षण दिये जाने का प्रावधान रहा है। एनआइसी के साफ्टवेयर में महिला-पुरुष व विज्ञान-कला विषय का विभाजन सबसे बड़ी समस्या रही है।

अफसरों ने पाया कि भले ही बीटीसी में दाखिला इस आधार पर दिया जाता है, लेकिन शिक्षक चयन का आधार महिला-पुरुष या फिर कला-विज्ञान विषय नहीं है, बल्कि वहां अभ्यर्थी की केवल मेरिट देखी जाती है। उसी आधार पर बीटीसी की काउंसिलिंग में महिला-पुरुष व कला-विज्ञान विषय के आधार को किनारे करके अभ्यर्थी की शैक्षिक मेरिट पर प्रवेश देने की सहमति बनी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *