फर्जी शिक्षकों पर कार्रवाई नहीं कर रहे बीएसए

इलाहाबाद : Basic Shiksha Adhikari विभागीय अफसरों पर भारी पड़ रहे हैं। सामान्य निर्देशों को छोड़िए परिषद मुख्यालय से फर्जी शिक्षकों पर कार्रवाई करने को कहा, उसमें भी आनाकानी हो रही है। निर्देशों के एक माह बाद भी सिर्फ दस जिलों ने परिषद सचिव के आदेश का अनुपालन किया है, बाकी पर विभाग ने कार्रवाई न करके सिर्फ हिदायत देते हुए कार्रवाई करने की समय सीमा बढ़ा दी है। ऐसे में फर्जीवाड़ा करने वालों पर प्रभावी कार्रवाई की उम्मीद नहीं है। Basic Shiksha Parishad के prathamik va uchch prathmik vidyalaya के Assistant Teacher Recruitment में फर्जी अभिलेखों के जरिये 4570 Teacher  ने नियुक्ति पा ली है। यह खेल करने वाले अभ्यर्थियों ने डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से 2004-05 सत्र से बीएड किया है। इसका राजफाश पिछले दिनों एसटीएफ ने किया है।

पढ़ें- विज्ञान-गणित शिक्षकों के भरे जाएं रिक्त पद 

परिषद ने इन शिक्षकों पर नियमानुसार विधिक व विभागीय कार्रवाई करने के लिए बीते 12 अक्टूबर को सभी जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश भेजा। इसके साथ एक सीडी भी उपलब्ध कराई गई, ताकि Fake Teachers को चिह्न्ति करने में आसानी रहे। परिषद सचिव संजय सिन्हा ने बीते 28 अक्टूबर को BSA को दूसरा पत्र जारी करके निर्देश दिया कि विधिक व विभागीय कार्रवाई से 10 नवंबर तक परिषद को भी अवगत कराया जाए। परिषद कार्यालय के अनुसार इस दौरान सिर्फ फीरोजाबाद, हमीरपुर, औरैया, बलरामपुर, बस्ती, बदायूं, चंदौली, कन्नौज, जौनपुर व मऊ के बीएसए ने ही रुचि दिखाकर रिपोर्ट भेजी है, बाकी 65 जिले अब भी इस प्रक्रिया से दूर हैं।

पढ़ें- बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने बिना आदेश के प्रदेश भर में लाखों के विज्ञापन जारी किए

परिषद ने इन BSA पर कोई कार्रवाई न करके उनकी कार्यशैली पर खेद जताया है और रिपोर्ट भेजने की समय सीमा बढ़ाकर 15 नवंबर कर दिया है। बताते हैं कि कई BSA Fake Teachers पर कार्रवाई के लिए नोटिस का प्रारूप मांग रहे थे, इस बार परिषद ने सभी जिलों को प्रारूप भेज दिया है। आदेश में फिर कहा गया है कि शिथिलता बरतने पर वह खुद जिम्मेदार होंगे। हालत यह मामला न्यायालय, पुलिस महकमे व शिक्षा विभाग की प्राथमिकता में है, फिर भी आदेश नहीं माना जा रहा है।

BSA not taking action on fake teachers

BSA not taking action on fake teachers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *