राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में नियुक्त होंगे बेसिक शिक्षक

प्रदेश में संचालित 2090 rajkiya madhyamik vidyalaya में basic teachers की प्रतिनियुक्ति का रास्ता साफ हो गया है। गुरुवार को कैबिनेट ने माध्यमिक विद्यालयों में basic shiksha parishad के स्कूलों में पढ़ाने वाले assistant teachers को नियुक्त करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इससे राजकीय विद्यालयों में रिक्त पद भरे जाएंगे। इसके अलावा मानदेय के आधार पर भी ये पद भरे जाएंगे।

पढ़ें- 72,825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती में सात हजार पद खाली

सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि राजकीय इंटर कालेजों में सहायक अध्यापकों के 9342 पद रिक्त हैं। इनमें पुरुष संवर्ग में 4463 और महिला संवर्ग में 4879 पद रिक्त हैं। शिक्षकों की कमी पूरा करने के लिए परिषदीय शिक्षकों को यहां प्रतिनियुक्ति पर तैनात किया जाएगा। चूंकि प्रदेश के 20 जिलों को छोड़कर बाकी 55 जिलों में बेसिक शिक्षक मानक से अधिक हैं। अस्थायी व्यवस्था के तहत प्रतिनियुक्ति पर इनका चयन किया जाएगा। संतोष जनक अधिकतम सेवा अवधि के आधार पर sahayak adhyapak का चयन किया जाएगा।

पढ़ें- दो बड़े अखबारों में हो शिक्षक भर्ती का विज्ञापन

प्रतिनियुक्ति पर लिए जाने वाले sahayak adhyapak को madhyamik shiksha vibhag में नियमित नियुक्ति होने तक या 31 मार्च 2018, तक जो भी पहले हो प्रतिनियुक्ति पर रखा जाएगा। शासन द्वारा किसी भी समय यह प्रतिनियुक्ति समाप्त की जा सकती है। बेसिक शिक्षा के इच्छुक दावेदारों को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के जरिए चयन समिति को अपना आवेदन देना होगा। जो sssistant teacher retired हो चुके हैं उन्हें मानदेय के आधार पर रखा जाएगा।

पढ़ें- अनुदेशकों ने समीप के विद्यालयों में नियुक्ति मांगी

परिषदीय स्कूलों में बड़ी संख्या में तैनात हैं बीएड

परिषदीय स्कूलों में विशिष्ट बीटीसी चयन और 72,825 teacher की recruitment के जरिए बड़ी संख्या में स्नातक और B.ed Qualification वाले teacher तैनात हैं। ऐसे शिक्षकों की भी बड़ी तादाद है जो परास्नातक और बीएड हैं। LT grade teachers की recruitment  के लिए educational qualification graduate and b.ed है।

Basic teachers will be appointed in rajkiya madhyamik vidyalaya

Basic teachers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.