बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा कराने का चयन बोर्ड को जिम्मा

इलाहाबाद : प्रदेश की योगी सरकार ने basic shiksha parishad के प्राथमिक स्कूलों में likhit pariksha के द्वारा शिक्षक भर्ती कराने का एलान कर दिया है। इस परीक्षा को कराने की पूरी जिम्मेदारी Uttar Pradesh Madhyamik Shiksha Seva Chayan Board को देने की तैयारी चल रही है। शिक्षा निदेशालय ने इस बारे में शासन को प्रस्ताव भेज दिया है, अब शासन के निर्देश का इंतजार हो रहा है। शासन के निर्देश के बाद इस परीक्षा को कराने की तैयारियां तेजी शुरू होंगी।

पढ़ें- 68 हजार से अधिक शिक्षक पदों के लिए भर्ती परीक्षा की तैयारियां शुरू, सिलेबस पर मंथन

अब तक parishadiya school में शिक्षकों की भर्तियां मेरिट के आधार पर होती रही हैं। जिलों को आवंटित पदों के सापेक्ष बेसिक शिक्षा अधिकारी काउंसिलिंग कराकर नियुक्ति करते थे, लेकिन प्रदेश की भाजपा सरकार ने शिक्षक भर्ती परीक्षा में पारदर्शिता लाने के लिए likhit pariksha कराने का प्रावधान किया है। parishadiya school में दिसंबर महीने में 68 हजार 500 शिक्षकों की भर्ती होना प्रस्तावित है। इस परीक्षा के आयोजन के लिए प्रश्नपत्र आदि बनाने का कार्य तेजी से चल रहा है। इस परीक्षा के लिए सभी district education and training institutions से प्रश्नपत्र के संबंध में सुझाव मांगे जा चुके हैं।

पढ़ें- बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक भर्ती की तैयारियां शुरू

शिक्षा निदेशालय ने इस लिखित परीक्षा को Madhyamik Shiksha Seva Chayan Board से कराने का प्रस्ताव शासन को दिया है। शिक्षा निदेशालय ने अपने सुझाव प्रस्ताव में लिखा है कि माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्य, प्रवक्ता व एलटी ग्रेड शिक्षकों की परीक्षा समय समय कराती आ रही है। इसलिए यह संस्था इस लिखित परीक्षा का आयोजन भी बड़े सही तरीके से करा देगी। शिक्षा निदेशालय के इस प्रस्ताव पर शासन को अंतिम निर्णय लेना है। कुछ अधिकारिओं का कहना है कि शासन ने शिक्षा निदेशालय को चयन बोर्ड का प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया था, उसी का अनुपालन हुआ है। निदेशालय के इस प्रस्ताव से गेंद शासन के पाले में चली गई है। अब देखते है, शासन कब तक इस पर एक्शन लेता है। शासन का निर्देश मिलते ही इस परीक्षा को कराने की सारी तैयारियां शुरू होंगी। मना जा रहा है कि TET Exam परिणाम घोषित होने के बाद ही basic shiksha parishad के प्राथमिक स्कूलों की शिक्षक भर्ती की प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ेगी।

पढ़ें- शिक्षक भर्ती प्रक्रिया पर रोक पर हाई कोर्ट ने जताई नाराजगी, नेताओ का इस पर क्या कहना?

बोर्ड न होने से फंसेगा परीक्षा में पेंच

माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र के अध्यक्ष हीरालाल गुप्त व सभी सदस्य अपने पद से त्यागपत्र दे चुके हैं। इन लोगो के त्यागपत्र देने के बाद से चयन बोर्ड एक तरह से भंग है। बिना बोर्ड के कोई भी परीक्षा कराना संभव नहीं है। शासन का निर्देश है कि चयन बोर्ड और Higher education service commission का विलय करके एक बोर्ड बनना है। यदि शासन चाहेगा तो इस बीच नए बोर्ड का गठन कर सकता है। हालांकि इतने कम समय में बोर्ड गठित करना भी आसान नहीं होगा। चयन बोर्ड के उप सचिव नवल किशोर ने कहा कि उन्हें परिषदीय स्कूलों की teacher recruitment कराने का कोई निर्देश नहीं मिला है, लेकिन शासन जो आदेश देगा उसका अनुपालन किया जाएगा। Reference- Dainik Jagran

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.