बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में पठन-पाठन प्रभावित

Shikshamitra Samayojan रद्द होने के बाद से शिक्षामित्रों दवारा किये जा रहे आंदोलन से basic shiksha parishad के विद्यालयों में पठन-पाठन प्रभावित हो रहा है। अब शासन ने विद्यालयों में पठन-पाठन को फिर से पटरी पर लाने के लिए कड़े निर्देश जारी किये हैं। अगर प्रदेश में कोई भी स्कूल बंद मिलने पर वहां के teachers या शिक्षिका पर कठोर कार्रवाई करने का आदेश जारी किया गया है। अब विभागीय अफसर भी तेज़ी से स्कूलों का निरीक्षण करेंगे। जिसे से पता लग सके किस स्कूल में पढ़ाई हो रही है और कौन सा स्कूल बंद पड़ा है। माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा sahayak adhyapak पद पर नियुक्त शिक्षामित्रों की नियुक्ति को रद्द किये जाने के बाद से प्रदेश के हर जिले में तालाबंदी और प्रदर्शन कई दिनों से चल रहा था। जिस से स्कूलों में पढ़ाई पूरी तरह ठप्प है। मुख्यमंत्री और शासन की पहल के बाद से आंदोलन पर विराम लगा है। इसके बाद से शिक्षा विभाग के अफसर स्कूलों में पठन-पाठन सुचारु रूप से चले इसके लिए सक्रिय हो गए हैं। basic shiksha parishad के सचिव संजय सिन्हा ने सभी जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी किया है कि अब परिषदीय स्कूलों में समय सारिणी के अनुरूप पढ़ाई हर हाल में कराई जाए।

बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव संजय सिन्हा के आदेशनुसार प्रदेश के सभी शिक्षक/शिक्षिका समय से स्कूल पहुंचे और अपने दायित्वों का निर्वाह करें। कोई भी स्कूल बंद न रहे यदि कोई स्कूल बंद पाया गया तो उस स्कूल की शिक्षक या शिक्षिका पर कठोर कार्रवाई करके परिषद को अवगत कराया जाए। इसके पहले अपर मुख्य सचिव राज प्रताप सिंह ने भी सभी जिलों के डीएम को पत्र भेजकर पढ़ाई को सुचारु रूप से चलने का निर्देश दिया था। प्रदेश भर में चले शिक्षामित्रों के आंदोलन के कारण परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में प्रभावित पठन-पाठन के कार्य पर Basic education department ने गंभीर रुख अपनाया है। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिन्हा ने सभी जिलों के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को बुधवार को पत्र लिखकर स्कूलों में समय सारिणी के अनुरूप पठन-पाठन सुनिश्चित कराने के आदेश दिए हैं। और कहा, नियमित रूप से प्रदेश के सभी स्कूलों का निरीक्षण किया जाए।

शासन का निर्देश है कि प्रदेश के सभी teachers समय से स्कूलों में उपस्थित होकर पढ़ाई का कार्य पूरा करे और कोई भी विद्यालय किसी भी कीमत पर बंद नहीं होना चाहिए। अगर किसी भी स्कूल के बंद होने या पठन-पाठन न होने पर उसे गंभीरता से लेते हुए संबंधित teachers के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। सरकार का रुख शिक्षामित्रों के आंदोलन पर शुरू से सख्त है। अपर मुख्य सचिव बेसिक राज प्रताप सिंह ने 28 जुलाई को सभी जिलाधिकारियों को पत्र लिखकर स्कूलों में पठन-पाठन में व्यवधान उत्पन्न करने वाले व्यक्तियों, शिक्षामित्रों व teachers के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

उपस्थिति पंजिका का स्वरूप बदलने का निर्देश: shikshamitra samayojan रद होने से अब पदेश के स्कूलों में उपस्थिति पंजिका का स्वरूप बदलने का निर्देश हुआ है। उपस्थिति पंजिका पर sahayak adhyapak की बजाय अब shikshamitra लिखा जायेगा। प्रदेश के कई जिलों में education department के अधिकारियों ने प्रधानाचार्यो को निर्देश दिया है कि वह अब पंजिका में शिक्षामित्र लिखकर ही हस्ताक्षर कराएं, ताकि न्यायालय के आदेश की अवज्ञा न होने पाएं।

पढ़ें- शिक्षामित्रों को योगी सरकार से नहीं मिली कोई राहत

basic shiksha parishad schools study affecting

basic shiksha parishad schools study affecting

shiksha mitra protest latest news पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते है। जिससे आपको हमारे ब्लॉग की लेटेस्ट पोस्ट का नोटिफिकेशन मिल सके।

131 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.