5.58 लाख शिक्षकों के लिए तबादला निति जल्द पूरी

सरकार जल्द ही बेसिक शिक्षा परिषद शिक्षकों के लिए स्थानांतरण निति लाएगी। सम्बंधित अधिकारिओं को ड्राफ्ट तैयार करने के निर्देश दे दिए गए है। नई निति जहाँ महिलाओं को घर के पास तैनाती दिए जाने का प्रावधान होगी, वही लापरवाह शिक्षकों को दूर तबादला किया जायेगा। आवेदन ऑनलाइन लिए जायेंगे और विद्यालयवर  लिए जायेंगे रिक्त पदों की सूचना भी वेबसाइट पर डाली जाएगी, साथ ही रिक्त पदों की स्थिति हर दिन अपडेट की जाएगी प्रदेश के लगभाग 1.58  लाख  बेसिक स्कूलों में 5 लाख 85 हज़ार 232 शिक्षक पढ़ा रहे है। इनके लिए पिछले साल अखिलेश सरकार स्थानांतरण निति लायी थी, पर यह निति देर से जारी होने से शिक्षक इस निति का लाभ नहीं उठा सके थे अब योगी सरकार से नई निति लाने का फैसला किया है।

पढ़ें- अंशकालिक अनुदेशकों का मानदेय 17 हजार करने की तैयारी

बिभागीय सूत्रों के मुताबिक इस नई निति से सबसे ज़्यदा फायदा महिला शिक्षकों को होगा, जो महिला शिक्षक अपने घर से 100 -150 किलोमीटर तैनात है, उनको घर के नजदीक आने का मौका मिलेगा वही सबसे ज़्यदा मर लापरवाह शिक्षकों पड़ेगी। जो शिक्षक प्रथम 100 दिन में निर्धारित कोर्स पूरा नहीं कर पाएंगे या जिनके के खिलाफ लापरवाही की शिकायत होगी, उनका तबादला दूसरी जगह कर दिया जायेगा। जिन स्कूलों में स्टूडेंट के अनुपात में अधिक शिक्षक होंगे, उनका भी तबादला होगा दोनों के पति पत्नी दोनों के शिक्षक होने पर उनको नजदीक के स्कूल ही दिए जायेंगे। स्थानांतरण निति में दिव्यांग जनों और बीमार शिक्षक शिक्षकाओं को विशेष तहरीज। ऐसे शिक्षकों की और से आये विकल्प पर विचार नहीं होगा जिनके स्कूल में पढ़ाई कमतर पाया जायेगा। उनकी तैनाती स्थल पूरी तरह बिभाग की मर्जी से तय होगा।

पढ़ें- तबादले की सूचना न देने पर कठोर कार्रवाई

मई जून में नहीं होंगे तबादले शिक्षा बिभाग के एक अधिकारी ने बताया कि इस बार मई जून में तबादले नहीं होंगे पर तबादला निति के आधार पर बीच सत्र में 15 दिन के भीतर प्रक्रिया पूरी करने कि योजना बनायीं जा रही है इस बार उच्च स्तर पर सहमति बन गई है और ड्राफ्ट तैयार होते ही कैबिनेट की मुहर लग जाएगी

The transfer policy for 5.58 lakh teachers will be completed soon

 transfer policy

309 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.