9342 एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती अधर में

बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में छात्र-शिक्षकों के अनुपात ने भर्तियों की बरसात फिलहाल रोक दी है। सरकार ने बेसिक के स्कूलों में शिक्षकों की चयन करने के लिए नए बोर्ड का गठन ही नहीं रोका है, बल्कि जिन भर्तियों का शासनादेश जारी हो चुका है, उन पर भी ग्रहण लग गया है। हालत यह है कि परिषदीय स्कूल के 65 हजार से अधिक अतिरिक्त शिक्षकों को कम शिक्षक वाले विद्यालयों में समायोजित करने की मुहिम चल रही है।

परिषदीय स्कूल में नए शिक्षकों के चयन के लिए पिछले साल 12460 और चार हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती की गई है। अभ्यर्थियों की काउंसलिंग द्वारा नियुक्ति के पहले ही सरकार ने शिक्षकों की तैनाती छात्र संख्या के अनुरूप करने का आदेश जारी किया। इससे पूरे प्रदेश में स्थिर छात्र-शिक्षक अनुपात के तहत पद निर्धारण हुआ। इसमें 65 हजार से अधिक अतिरिक्त शिक्षक मिले हैं। तमाम विद्यालयों में शिक्षकों की तादाद छात्र संख्या के लिहाज से काफी अधिक मिली तो ऐसे भी स्कूल कम नहीं हैं, जहां काफी कम शिक्षकों की तैनाती है। इसी के बाद से नई भर्तियों को रोककर अतिरिक्त शिक्षकों का जिलों में समायोजन की प्रक्रिया चल रही है।

भर्तियां रुकने का बोझ हाईकोर्ट पहुंच गया है, जहां इसी महीने परीक्षण होना है, लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए नियुक्तियां होने की उम्मीद बहुत कम है। इसी तरह से उच्च प्राथमिक स्कूलों में 32022 शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षकों की भर्ती भी रुकी है, इसे शुरू करने के लिए अभयर्थी आंदोलन कर रहे हैं। वहीं, 29334 हजार विज्ञान-गणित शिक्षक और 72825 शिक्षा भारती के भी कुछ पद रिक्त हैं। यह पद भरा जाएगा या नहीं इस संबंध में अफ़सर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। उनका दो टूक जवाब है कि शासन जैसा निर्देश देगा उसके अनुरूप कार्य होगा।

एलटी ग्रेड 9342 शिक्षक भर्ती अधर में : प्रदेश के राजकीय माध्यमिक कालेजों में वैसे तो शिक्षकों की कमी है। ज्यादातर विद्यालय ग्रामीण क्षेत्रों के हैं वहीं, शहर व आसपास के स्कूलों में शिक्षक संख्या पर्याप्त है। इन कालेजों में भी छात्र-शिक्षक अनुपात में समायोजन प्रक्रिया चल रही है इसलिए यह भर्ती भी फिलहाल अधर में अटकी है। माना जा रहा है कि समायोजन पूरा होने के बाद खाली पदों के सापेक्ष भर्ती कुछ समय बाद शुरू हो सकती है।LT Grade Teacher Recruitment

135 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.