9342 एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती अधर में

Basic Shiksha Parishad के विद्यालयों में छात्र-शिक्षकों के अनुपात ने भर्तियों की बरसात फिलहाल रोक दी है। सरकार ने बेसिक के स्कूलों में शिक्षकों की चयन करने के लिए नए बोर्ड का गठन ही नहीं रोका है, बल्कि जिन भर्तियों का शासनादेश जारी हो चुका है, उन पर भी ग्रहण लग गया है। हालत यह है कि parishadiya school के 65 हजार से अधिक अतिरिक्त शिक्षकों को कम शिक्षक वाले विद्यालयों में समायोजित करने की मुहिम चल रही है।

parishadiya school में नए शिक्षकों के चयन के लिए पिछले साल 12460 और Four thousand Urdu teachers recruited का शासनादेश जारी हो चुका है। अभ्यर्थियों की counseling करके नियुक्ति के पहले ही सरकार ने शिक्षकों की तैनाती छात्र संख्या के अनुरूप करने का आदेश जारी किया। इससे पूरे प्रदेश में तय छात्र-शिक्षक अनुपात के तहत पद निर्धारण हुआ। इसमें 65 हजार से अधिक अतिरिक्त शिक्षक मिले हैं। तमाम विद्यालयों में शिक्षकों की तादाद छात्र संख्या के लिहाज से काफी अधिक मिली तो ऐसे भी स्कूल कम नहीं हैं, जहां काफी कम शिक्षकों की तैनाती है। इसी के बाद से नई भर्तियों को रोककर अतिरिक्त शिक्षकों का जिलों में समायोजन की प्रक्रिया चल रही है।

भर्तियां रुकने का प्रकरण हाईकोर्ट पहुंच चुका है, जहां इसी माह सुनवाई होनी है, लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए नियुक्तियां होने की उम्मीद बहुत कम है। इसी तरह से upper primary schools में 32022 physical education instructors की भर्ती भी रुकी है, इसे शुरू कराने के लिए अभ्यर्थी आंदोलन कर रहे हैं। वहीं, 29334 thousand science-mathematics teachers और 72825 shikshak bharti के भी कुछ पद रिक्त हैं। यह पद भरे जाएंगे या नहीं इस संबंध में अफसर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। उनका दो टूक जवाब है कि शासन जैसा निर्देश देगा उसके अनुरूप कार्य होगा।

एलटी ग्रेड 9342 शिक्षक भर्ती अधर में : प्रदेश के राजकीय माध्यमिक कालेजों में वैसे तो शिक्षकों की कमी है। ज्यादातर विद्यालय ग्रामीण क्षेत्रों के हैं वहीं, शहर व आसपास के स्कूलों में शिक्षक संख्या पर्याप्त है। इन कालेजों में भी छात्र-शिक्षक अनुपात में समायोजन प्रक्रिया चल रही है इसलिए यह भर्ती भी फिलहाल अधर में अटकी है। माना जा रहा है कि समायोजन पूरा होने के बाद खाली पदों के सापेक्ष भर्ती कुछ समय बाद शुरू हो सकती है।

135 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.