68500 शिक्षक भर्ती- बिना परीक्षा दिए पास होने का मामला प्रकाश में आया

परिषदीय स्कूलों में 68500 सहायक शिक्षक की भर्ती परीक्षा गड़बड़ियों का पर्याय बनती जा रही है। जहां एक दिन पहले कम अंक पाकर भी पास होने का मामला उजागर हुआ था, वहीं अब दो अभ्यर्थियों के बिना परीक्षा दिए ही पास होने का मामला प्रकाश में आया है। हाईकोर्ट में पहले से दाखिल याचिका में इन मामलों को भी शामिल किया जाएगा।

मथुरा जिले का रहने वाला मोहम्मद साहून पुत्र समशुद्दीन अनुक्रमांक 01041004566 परीक्षा में शामिल नहीं हुआ था। उसे परिणाम में 86 अंक हासिल हुए हैं। ऐसे ही अमेठी की रहने वाली मीना देवी पुत्री मेवालाल अनुक्रमांक 59710200660 भी परीक्षा में शामिल नहीं हुई लेकिन, उसे 75 अंक हासिल हुए। खास बात यह है कि दोनों सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी हैं और उपस्थिति पंजिका में अनुपस्थित हैं। कहा जा रहा है कि ऐसे मामले और भी सामने आ सकते हैं। वहीं, कार्यालय की ओर से कहा जा रहा है कि आगरा की एक छात्र ने प्रत्यावेदन दिया था कि उसने गलती से दूसरे अभ्यर्थी के सामने हस्ताक्षर बना दिए थे, जिससे छात्र खुद अनुपस्थित हो गई और वह अभ्यर्थी उत्तीर्ण हुआ है। इस मामले को उच्च अधिकारियों को पहले ही संदर्भित किया जा चुका है।

रिजल्ट में 41, कॉपी पर मिले 94 अंक : परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय से बुधवार को एक और स्कैन उत्तर पुस्तिका अभ्यर्थी को सौंपते ही हंगामा मच गया। हाथरस के यतीश सेंगर को 41 अंक मिले थे। उसने नियमानुसार स्कैन कॉपी ली। इसमें यतीश को 94 अंक मिले हैं।

जांच के लिए शासन ने गठित की समिति : प्रदेश सरकार ने परिषदीय स्कूलों में 68500 शिक्षकों की नियुक्ति में लगातार मिल रही शिकायतों को देखते हुए इनकी जांच के लिए समिति गठित की है। अपर मुख्य सचिव डॉ. प्रभात कुमार ने बताया कि समिति शिकायतों के निस्तारण के साथ ही भविष्य में इस तरह की कोई गड़बड़ी न होने पाए, इसके लिए सुझाव भी सरकार को देगी। समिति का अध्यक्ष बेसिक शिक्षा सचिव मनीषा त्रिघाटिया को बनाया गया है। सदस्यों में राज्य शैक्षिक अनुसंधान प्रशिक्षण परिषद के निदेशक संजय सिन्हा, निदेशक बेसिक शिक्षा सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह व सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी सुक्ता सिंह शामिल हैं।

Disclosure of big disturbances in 68500 teacher recruitment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.