50 फीसदी शिक्षामित्र उपस्थित रहे, योगी की कैबिनेट में मिल सकती है बड़ी राहत

यूपी के शिक्षामित्रों ने दिल्ली के जंतर मंतर पर बीते दिनों जमकर विरोध किया, जिसकी वजह से दिल्ली की सड़कें जाम रहीं। आज Yogi Adityanath cabinet की अहम बैठक करेंगे और शिक्षामित्र के मुद्दे पर बड़ा फैसला लेंगे। शाम पांच बजे lok-bhavan में cabinet की बैठक बुलाई गई है। सूत्रों के अनुसार बैठक में शिक्षामित्रों को वेटेज देने के लिए नियमावली में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दी जा सकती है। इससे उन्हें राहत मिलेगी। बैठक में अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई के लिए प्रस्तावित कानून यूपीकोका पर अध्यादेश या विधेयक के मसौदे को मंजूरी दी जा सकती है। इसके अलावा गाजियाबाद मेट्रो और कानपुर मेट्रो से संबंधित प्रस्तावों को भी मंजूरी दी जा सकती है। नई औद्योगिक नीति को लागू करने के लिए दिशानिर्देश मंजूर किए जा सकते हैं।

50 फीसद शिक्षामित्र स्कूलों में मौजूद: एक तरफ देश की राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर shikshamitron का धरना चल रहा है वहीं दूसरी तरफ Basic education department ने शिक्षामित्रों की उपिस्थिति का ब्यौरा रोजाना लेने की कवायद शुरू कर दी है। धरने के पहले दिन सूबे के स्कूलों में 50% मौजूदगी कम रही वहीं पूर्वांचल के जिलों में शिक्षामित्र स्कूल पहुंच रहे हैं। स्कूलों में असमायोजित शिक्षामित्र औTET passed shikshamitra की मौजूदगी ज्यादा दिख रही है। सोमवार को 50 से ज्यादा जिलों ने निदेशालय में यह रिपोर्ट भेजी है।

जंतर मंतर पर शिक्षामित्र 14 सितम्बर तक धरना देंगे। दूसरी तरफ, विभाग शिक्षामित्रों की उपस्थिति के जरिए ये सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहा है कि इससे सूबे के स्कूलों में पठन-पाठन पर क्या असर पड़ रहा है। इसके बाद विभाग की मंशा है कि शिक्षामित्रों की उपिस्थिति स्कूल में सुनिश्चित करने के लिए नकेल कसी जाए। 25 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने 1.30 लाख शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द कर दिया है। इसके बाद से शिक्षामित्र लगातार समान कार्य, समान वेतन और TET से छूट देते हुए समायोजन की मांग कर रहे हैं।

पढ़ें- शिक्षामित्र अब 11 को जंतर-मंतर पर दिखाएंगे अपना दम

50 percent shikshamitra present in basic shiksha parishad schoolsshiksha mitra latest news 2018

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.