22 और 23 सितम्बर को गैरहाजिर शिक्षामित्रों पर गिरेगी बर्खास्तगी की गाज!

प्रदेश के परिषदीय स्कूलों की शिक्षा आंदोलनो की वजह से काफी दिनों से बेपटरी हो चली थी उसको पटरी पर लाने के लिए शासन ने सख्त कदम उठाया है। शासन के आदेश पर बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षामित्रों की कुण्डली का काम तेजी से किया जा रहा है। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद ने सभी जिलों के बीएसए से स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षामित्रों की सूची के साथ रोजाना स्कूलों में उपस्थित रहने तथा अनुपस्थित रहने वाले शिक्षामित्रों की सूची के बारे में जानकारी मांगी है। शुक्रवार को बड़ी संख्या में स्कूल छोड़ शिक्षामित्रों के वाराणसी कूच करने से शिक्षण कार्य में बाधा पैदा हुई। प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षामित्रों का समायोजन सुप्रीम कोर्ट की ओर से रद् किए जाने के बाद जुलाई से ही shiksha mitra नौकरी पाने के लिए आन्दोलन चला रहे हैं।

पढ़ें- शिक्षामित्रों की प्रधानमत्री मोदी से मुलाकात को लेकर संशय बरकरार

जिले से लेकर प्रदेश व दिल्ली तक आन्दोलन करने वाले शिक्षामित्रों को 10 हजार रुपए मासिक मानदेय देने का शासनादेश सरकार ने जारी किया है। मगर शिक्षामित्र 10 हजार रुपए मासिक मानदेय स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने स्कूलों से गायब रहने वाले शिक्षामित्रों की जांच कराकर उनका मानदेय रोकने के साथ उन्हें अनुपस्थित नहीं करने अथवा उनके नाम के आगे का कालम खाली रखने के मामले में कई प्रधानाध्यापकों का वेतन रोकने का आदेश जारी किया है। इसकी शुरुआत दूबेपुर व कुड़वार ब्लाक से हुई है। यहां पर आधा दर्जन से अधिक शिक्षामित्रों व शिक्षकों का वेतन बीईओ की रिपोर्ट पर बीएसए ने रोकने की कार्रवाई की है।

बीएसए ने दी चेतावनी

सुलतानपुर: सुप्रीमकोर्ट के फैसले और शिक्षामित्रों को 10 हजार मानदेय देने का शासनादेश जारी होने के बाद जलिा बेसिक शिक्षा अधिकारी ने प्रधानाध्यापकों को चेतावनी दी है कि वे शिक्षामित्रों की कुण्डली का सत्यापन ठीक करें। शिक्षामित्रों के स्कूलों में गैरहाजिर रहने पर उनकी सही ढंग से जानकारी विभाग को उपलब्ध कराएं।

पढ़ें- शिक्षामित्रों की कोई पुनर्विचार याचिका खारिज नहीं हुई है – गाजी इमाम आला

 गैरहाजिर शिक्षामित्रों पर गिरेगी बर्खास्तगी की गाज

अलीगढ़ : समायोजन की मांग पर लगातार आंदोलनरत शिक्षामित्रों पर अब बर्खास्तगी की कार्रवाई भी हो सकती है। अपर शिक्षा निदेशक रूबी सिंह ने वाराणसी में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में अड़ंगा डालने वाले शिक्षामित्रों की सूची नाम के साथ मांगी है। शासन के निर्देश पर 22 सितंबर को स्कूलों में निरीक्षण किया गया। इसमें 432 शिक्षामित्र गैर हाजिर मिले हैं। जिले में कुल 2559 शिक्षामित्र हैं। अफसरों का मानना है कि अनुपस्थित शिक्षामित्रों के नाम सहित सूची मांगने से यही लग रहा है कि इनके खिलाफ बर्खास्तगी या अन्य दंडात्मक कार्रवाई की जा सकती है।

पढ़ें- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरा को लेकर शिक्षामित्रों के आंदोलन से डरा बनारस प्रशासन

पीएम से मिलेंगे 

adarsh samayojit shikshak-shiksha mitra welfare association के जिलाध्यक्ष सुनील शर्मा ने बताया कि शनिवार को वाराणसी में शिक्षामित्रों का प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री से मिलेगा। बताया कि वाराणसी में प्रधानमंत्री का दो दिवसीय दौरा है, जिसमें पहले दिन उनके सभी कार्यक्रम स्थगित हो गए हैं। सुबह सात से नौ बजे के बीच प्रतिनिधिमंडल पीएम से मिलेगा है। प्रतिनिधि मंडल में अमरेंद्र, अजय कुमार सिंह, सीमा मिश्र, स्मिता राय व प्रतिभा दुबे शामिल हैं। जिलाध्यक्ष ने बताया कि पुलिस व प्रशासन ने शिक्षामित्रों को वाराणसी पहुंचने से रोकने के लिए हर संभव प्रयास किया। फिर भी करीब 80 हजार शिक्षामित्र वाराणसी पहुंचे हैं। शासन ने मांगी गैरहाजिर शिक्षामित्रों की नाम सहित सूची

आज वाराणसी में पीएम से मिलेगा शिक्षामित्रों का प्रतिनिधिमंडल22 व 23 को दो दिन गैरहाजिर रहने वाले शिक्षामित्रों के नाम भेजने हैं। अभी 432 शिक्षामित्रों के नाम दर्ज किए गए हैं। 23 की शाम तक सूची शासन को भेज दी जाएगी। – धीरेंद्र कुमार, बीएसए

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.