Job crisis of 1.75 Lakh Shikshamitra, 1.75 लाख शिक्षामित्रों की नौकरी संकट में

Uttar Pradesh Government ने Supreme Court में Shikshamitra को Assistant Teacher बनाने का बचाव किया सरकार ने कहा दूर दराज के इलाकों में रहने वाले बच्चों को शिक्षित करने के उद्देश्य से Shikshamitron को Assistant Teacher के तौर पर नियुक्त किया गया था। गौरतलब है कि Uttar Pradesh Government ने करीब One Lakh 37 Thousand Shikshamitron को Assistant Teacher के तौर पर समायोजित कर लिया है, जबकि 35 thousand assistant teachers कि नियुक्ति अभी होनी है लेकिन फ़िलहाल अभी रुकी हुई है।

पढ़ें-  Shikshamitra Samayojan and Teacher Recruitment

न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल न्यायमूर्ति ललित कि पीठ के समक्ष उत्तर प्रदेश सरकार की और से पेश एडिशनल अधिवक्ता जनरल ( एएजी) अजय मिश्रा ने कहा कि राज्य में शिक्षकों की की कमी और दूर दराज के इलाकों में शिक्षा देने के मद्देनज़र शिक्षा मित्रों को सहायक शिक्षक के तौर पर नियुक्त किया गया। सुनबाई के दौरान पीठ ने एएजी से पूछा कि कितने शिक्षा मित्रों को सहायक शिक्षक बनाया जा चुका है और अभी कितने बाकी है साथ ही साथ यह भी पूछा गया कि कितने assistant teachers के पद रिक्त है। अदालत ने यह भी जानकारी मांगी कि 1999 के बाद कब और कैसे नियुक्तियां हुई। सरकार की तरफ से राकेश मिश्रा सहित कई और वकील पेश हुए।

पढ़ें- Shikshamitron को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिया पैरवी का आश्वासन

Shikshamitron की और से पेश हुए Senior advocate Shanti Bhushan ने कहा खर्च में कटौती के लिए Shikshamitra की नियुक्ति हुई थी उन्होंने कहा की सविधान कि अनुच्छेद – 142 कि तहत मिले विशेष अधिकार का इस्तेमाल करते हुए assistant teacher के तौर पर समायोजित किये गए, Shikshamitron को बने रहने देना चाहिए । कोर्ट को जनहित और मानवीय आधार पर सरकार को आदेश पारित करना चाहिए। वही वकील मिनेश दुबे ने कहा कि राज्य सरकार की गलती की सजा शिक्षा मित्रों को नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत शिक्षा को दूर दराज के इलाकों में पहुँचाने के मकसद से ये नियुक्तियां हुई थी। वही senior lawyer Ram Jethmalani ने कहा कि सहायक शिक्षकों के तौर पर समायोजित किये गए शिक्षा मित्रों को बने रहने देना चाहिए। इनका काम 5 से 14 साल कि बच्चों को शिक्षा देना है ऐसे में अधिक शैक्षणिक योग्यता की क्या जरूरत है सुनवाई आज भी जारी रहेगी।

पढ़ें- Shikshamitron के भाग्य का फैसला होगा कल 

Job crisis of 1.75 lakh Shikshamitra.Supreme court can order fresh recruitment, hearing will continue till today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *